झारखण्ड : जनजातीय समृद्ध जीवन दर्शन की झलकियों से रूबरू होगा देश

झारखण्ड : 9 और 10 अगस्त को आयोजित होगा जनजातीय महोत्सव. जनजातीय कलाकारों की अद्भुत और अविस्मरणीय कला एवं जनजातीय फैशन शो का भी होगा प्रदर्शन. मुख्यमंत्री ने किया प्रतीक चिन्ह का शुभारंभ. 

रांची : झारखण्ड में मौजूद हेमन्त सरकार में जनजातियों के कल्याण में ईमानदार प्रयास हो रहे हैं. इस कड़ी मे 9 और 10 अगस्त को झारखण्ड में जनजातीय महोत्सव 2022 का आयोजन होने जा रहा है. रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित होने वाले इस महोत्सव में नार्थ ईस्ट के कलाकार भी भाग लेंगे. जनजातीय कलाकारों की अद्भुत और अविस्मरणीय कला के प्रदर्शन से संबंधित राज्य सरकार की ओर से तैयारियों को अंतिम चरण में है. मुख्यमंत्री द्वारा आज प्रतीक चिन्ह का शुभारंभ किया गया. 

इस समारोह में जनजातीय इतिहास, साहित्य, मानवशास्त्र समेत अन्य विषयों पर संगोष्ठी, कला एवं संगीत, परिधान, फैशन शो, खान-पान और सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होंगे. कार्यक्रम में झारखण्ड, छत्तीसगढ़, ओडिशा, मिजोरम समेत अन्य जनजातीय बहुल राज्य के कलाकारों के भाग लेने हेतु अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग द्वारा आमंत्रित किया गया है. 

कार्यक्रम का उद्घाटन समारोह 9 अगस्त 2022 को अपराह्न 1 बजे होगा. कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद, दिसूम गुरु शिबू सोरेन होंगे. और 10 अगस्त को समापन समारोह के मुख्य अतिथि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल होंगे. महोत्सव की अध्यक्षता मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन करेंगे. इस दौरान मंत्रिमंडल के समस्त मंत्री, सांसद, विधायक, जिला पंचायत के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं महापौर उपस्थित रहेंगे.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.