झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन का असम उपस्थिति के मायने

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
असम उपस्थिति

हेमंत सोरेन का असम उपस्थिति आदिवासी-दलित-पिछड़े, अल्पसंख्यक व गरीब के हितों के मद्देनजर, हिन्दुस्तान के राजनीति में बड़ी लाकीर खींचने का सच लिए है

चुनावी स्टंट के मद्देनजर अगर भाजपा 3,11,69,272 जनसँख्या वाले उस असम में एनआरसी के आड़ में हिंदू कार्ड खेलने से न चूके। जहाँ की पहाडियों व घाटियों का जुड़ाव द्रविड़ जनजातीय जैसी प्राचीन संस्‍कृति-सभ्यता से रहा हो। प्रारंभिक दौर में यह कार्ड असर भी दिखाए। लेकिन सोशल मीडिया खुलासा में असमी आदिवासी झारखंड के सरना कोड आंदोलनों से अपना जुड़ाव बना ले। और प्रभाव के तौर पर हिन्दू कार्ड के बेअसर होने का स्पष्ट संकेत दे। तो जाहिर है चाय बगान समेत असम में त्रासदीय जीवन जी रहे झारखंड व असमी आदिवासी, अपने धर्म व संस्कृत से जुड़ाव बना ले। तो जाहिर है संघी मानसिकता के उस सोच के पर्दाफास का यह हकीकत हो सकता है।

झारखंड सरना कोड आंदोलन बंगाल ही नहीं असम के भी विधानसभा चुनाव में असर का सच लिए है। और आंदोलन के अक्स में भाजपा का हिंदू कार्ड कमजोर होता दिखना। साफ़ तौर पर, झारखंड के पेंच में बंगाल और असम में भाजपा का फंसने का सच उभरता है। चूँकि बंगाल की भांति असम के इलाके भी झारखंडी मूल के आदिवासियों का निर्णायक सच लिए हुए है। कई ऐसे विधानसभा और लोकसभा सीटें हैं जहाँ झारखंड आदिवासी का चुनाव होता है। वहां भाजपा के लिए हिंदू कार्ड का खेल बेकार होना। निश्चित रूप से हेमंत सोरेन की रणनीति आदिवासी-दलित-पिछड़े, अल्पसंख्यक व गरीब के हितों के मद्देनजर, हिन्दुस्तान के राजनीति में बड़ी लाकीर खींचने का सच का उभार है। 

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन का असम में भव्य सवागत के मायने

असम के चाय बगान के इलाके झारखंडी मूल के लोगों की बहुतायत के सच झारखंड आंदोलन के प्रारंभिक दौर से जुड़ा है। जहाँ मोदी सपने के अक्स में भाजपा का हिंदू कार्ड भी प्रभावी रहा इससे इनकार नहीं। लेकिन त्रासदी व अस्तित्व के मद्देनजर सरना कोड आंदोलन से सरोकार बनाते हुए उन इलाकों में आदिवासियों का असर दिखना। जिसके अक्स में मुस्लिम विरोधी प्रचार भी बेअसर होने का सच हो। निश्चित रूप दर्शाता है कि लोग बौद्धिक चेतना के मद्देनजर अस्तित्व के लिए होने वाले जंग को समझ रहे है। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का असम में उपस्थिति के बीच भव्य स्वागत के सन्देश तो यही है। जहाँ भाजपा की राह मुश्किल होती दिखती है।

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.