क्या झारखण्ड के भाजपा नेता दुष्कर्मियों को देते हैं संरक्षण? बाबूलाल मरांडी के सलाहकार पर एससी/एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
बाबूलाल मरांडी के सलाहकार पर एससी/एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज
  • बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी पर एससी/एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज
  • कुछ महीने पूर्व भाजपा सांसद संजय सेठ के पीए संजीव साहू भी यौन शोषण मामले में जेल जा चुके हैं

बाबूलाल मरांडी के सलाहकार सुनील तिवारी एक नये अवतार में लोगों के समक्ष प्रकट हुए हैं. दूसरों को नसीहत देनेवाले सुनील तिवारी के खिलाफ अपने ही घर में काम करनेवाली आदिवासी युवती के साथ दुष्कर्म और एसटी/एससी एक्ट के तहत राजधानी के अरगोड़ा थाना में मामला दर्ज हुआ है.

पीडित युवती का धारा 164 के तहत न्यायालय में भी बयान दर्ज किया गया है. पुलिस मामले की जांच कर रही है 

यहां बता दें कि कानून व्यवस्था पर पानी पी पीकर राज्य सरकार पर अंगुली उठानेवाले भाजपा के वरिष्ठ नेता दीपक प्रकाश, बाबूलाल मरांडी समाचार लिखे जाने तक मामले में खामोश हैं. भाजपा के वो नेता जो मर्यादा और शुचिता की दुहाई देते हैं, का मामले में खामोशी क्या दोहरा मानदंड नहीं? ऐसे में सवाल गंभीर हो चला है कि क्या भाजपा नेता पूरी ताक़त के साथ राज्य की एक आदिवासी युवती के साथ हुए दुष्कर्म के खिलाफ आवाज उठायेंगे?  

क्या सुनील तिवारी के खिलाफ भाजपा सख्त सांगठनिक कानूनी कार्रवाई व  कानूनी कार्रवाई की मांग का समर्थन करेंगे? क्या भाजपा बैनर पोस्टर के साथ सड़क पर उतरेगी- झारखंड जनमानस का सवाल

प्रसंगवश यह बता दें कि भाजपा सांसद संजय सेठ के पीए संजीव साहू के खिलाफ भी कुछ महीने पहले एक युवती ने यौन शोषण का मामला दर्ज कराया था. उस मामले में पीए की गिरफ्तारी भी हुई थी. उस मामले में भी भाजपा नेताओं के मुंह से एक शब्द नहीं निकला था. तो क्या यह माना जाए कि प्रदेश भाजपा दुष्कर्मियों को संरक्षण देती है.

ट्वीटर एकाउंट में सुनील तिवारी स्वलिखित परिचय 

अब थोड़ा अवतारी पुरूष सुनील तिवारी के बारे में भी जान लिया जाए. अपने ट्वीटर एकाउंट में ये अपना परिचय नेता विरोधी दल बीजेपी झारखंड, बाबूलाल मरांडी  के सलाहकार के रूप में देते हैं. ये कई प्रमुख मीडिया संस्थान में काम भी कर चुके हैं (जैसा इनका दावा है). साथ ही ये खुद को सोशल एक्टीविस्ट भी बताते हैं. अब इनसे पूछा जाना चाहिए कि ये किस तरह की समाजसेवा कर रहे हैं? ये महानुभाव सोशल मीडिया पर दूसरों को खूब नसीहत देते हैं पर खुद क्या कर रहे हैं? 

पता चला है कि ये अवतारी पुरुष एक बी ग्रेड फिल्म के प्रोड्यूसर भी हैं जिसमें महिलाओं का अश्लील तरीके से चित्रण किया गया है. यह सब जानते-देखते भी भाजपा नेताओं की चुप्पी गले नहीं उतरती. 

इसमें कोई संदेह नहीं कि प्रदेश भाजपा के नेताओं का दोहरा चरित्र एक बार फिर सामने आ गया है. जिससे साफ होता है कि राज्य की महिलाएं और बेटियां इनके लिए सिर्फ एक राजनैतिक खिलौना मात्र हैं, जिन्हें ये लोग समय-समय पर अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करते हैं. सच्चाई यह है कि भाजपा व इस पार्टी के नेता दुष्कर्मियों की संरक्षक मात्र बन कर रह गए है.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.