महिला सुरक्षा का दंभ भरने वाले झारखण्ड भाजपा कार्यकर्ताओं पर लगातार लग रहे हैं यौन शोषण के आरोप 

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
शोषण के आरोप 

सूची होती जा रही है लम्बी  – अब तक झारखण्ड प्रदेश 3 कार्यकर्ताओं (एक अघोषित) पर लग चुका है यौन शोषण के गंभीर आरोप

अपने ही प्रमुख अभियान “बेटी बचाओ-बेटी बचाओ” को साबित कर रहे भाजपा कार्यकर्ता खोखला 

रांची  :  झारखण्ड भाजपा के कार्यकर्ता आसाराम बापू की राह चल निकले हैं. जनमुद्दों से परे उन्होंने खुद को ऐसे कामों में संलिप्त कर लिया है, जिसकी इजाजत न सभ्य समाज देती है और न ही संविधान. ज्ञात हो, झारखण्ड में भाजपा नेताओं कार्यकर्ताओं व करीबियों पर पिछले कुछ माह से महिलाओं द्वारा लगातार यौन शोषण के आरोप लगाया जा रहा हैं. आरोप इतना गंभीर होता है कि प्रदेश भाजपा के शीर्ष नेता तत्काल कुछ कहने से बेहतर चुप्पी साधना बेहतर समझते हैं. फिर कुछ समय उपरान्त आँखों का पानी गिरा, षड्यंत्र का नाम दे देते हैं. और आरोपियों के गुनाह के सम्बन्ध में एक शब्द नहीं कहते. 

देखा जाए, तो भाजपा नेता हमेशा महिला सुरक्षा का दंभ भरते हैं, लेकिन उनके आसपास रहने वाली महिलाएं आज खुद को असहाय महसूस कर रही हैं. पिछले चार माह में झारखण्ड भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं पर (एक अघोषित कार्यकर्ता पर पार्टी दुष्कर्म जैसे गतिविधि में संलिप्त होने का पर्दाफाश हुआ है) उनपर महिलाओं के साथ यौन शोषण के आरोप लगे हैं. ऐसे में बिना परहेज कहा जा सकता है, कि झारखण्ड भाजपा के कार्यकर्ता अपने ही नेताओं (नरेंद्र मोदी – अमित शाह) के महत्वाकांक्षी अभियान “बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ” की धज्जियाँ उड़ा रहे हैं. पूरे अभियान के उद्देश्य को खोखला साबित कर दिया है. 

यौन शोषण के आरोपी कोई सामान्य कार्यकर्ता नहीं 

भाजपा जिन तीन कार्यकर्ताओं पर पिछले कुछ माह में महिलाओं के साथ यौन शोषण के आरोप लगे हैं, वे कोई सामान्य कार्यकर्ता नहीं है. इसमें एक कार्यकर्ता तो रांची से सांसद संजय सेठ के आप्त सचिव होने के साथ भारतीय जनता युवा मोर्चा का पदाधिकारी रह चुका है. दूसरा कार्यकर्ता भाजपा सोशल मीडिया का काम संभाल चुका है. वहीं तीसरा (हालांकि ये घोषित रूप से भाजपा का नेता नहीं है), प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व भाजपा के शीर्ष नेता बाबूलाल मराडीं के राजनीतिक सलाहकार है. 

जानिये, किस तिथि को किस भाजपा कार्यकर्ता पर लगा है क्या आरोप

11 जनवरी 2021 :  भारतीय जनता युवा मोर्चा के मीडिया प्रभारी रहे राहुल सिंह पर एक युवती ने शादी का झांसा देकर यौन शोषण का आरोप लगाया. पीड़िता ने कोतवाली थाने में राहुल सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई. पीडि़ता ने भाजपा कार्यकर्ता के दोस्त पर गर्दन काटने का आरोप भी लगाया. कहा, जब इसकी शिकायत उसने संगठन के प्रदेश अध्यक्ष को दी, तो आरोपित के दोस्त विवेक सिंह पर गर्दन काटने की धमकी दी. 

15 जनवरी 2021 :  सांसद संजय सेठ के आप्त सचिव संजीव साहू के खिलाफ एक महिला ने यौन शोषण का आरोप लगाते हुए महिला थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी. पीड़िता ने पुलिस को बताया था कि संजीव साहू ने उसे प्रेम जाल में फंसाया और निजी जिंदगी में हर तरह का सहयोग करने की बात कहते हुए कई बार शारीरिक संबंध बनाए. पीड़िता ने कहा था कि उसके विरोध करने पर भी आरोपी ने उसकी बात अनसुनी कर दी. मामले में पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए भाजपा सांसद के पीए को जेल भेजा.


17 अगस्त 2021 :
  पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल के राजनीतिक सलाहकार सुनील तिवारी पर एक 20 साल की आदिवासी युवती ने यौन शोषण का आरोप लगाया है. पीड़िता ने अरगोड़ा थाना में लिखित शिकायत की. लड़की खूंटी की रहने वाली बताई जा रही है. केस दर्ज होने के बाद रांची पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है. लड़की की मेडिकल जांच कराई गई है.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.