झारखण्ड विधानसभा मानसून सत्र : मुख्यमन्त्री ने पेश किया बड़े जननेता का उदाहरण 

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
झारखण्ड विधानसभा मानसून सत्र

झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र में जनप्रतिनिधियों ने हाल में जान गवाए विभूतियों व आमलोगों को श्रद्धांजलि दी. झारखंड का दुर्भाग्य रहा कि इस दौरान भी भाजपा नेताओं ने सदन को बाधित करने की कोशिश की. मुख्यमंत्री ने सहनशील हो फिर बड़े जन नायक होने की मिसाल पेश की है.

रांची : झारखंड विधानसभा का मानसून सत्र शुक्रवार से शुरू हो गया. मुख्यमन्त्री हेमन्त सोरेन सहित सदन में मौजूद विभिन्न दलों के जनप्रतिनिधियों ने शोक संदेश पढ़कर राज्य व देश के उन विभूतियों व आमलोगों को सदन की ओर से श्रद्धांजलि दी जिन्होंने हाल में अपनी जान गंवाई है. सदन की एक स्वस्थ परंपरा का पालन करते हुए मुख्यमन्त्री ने विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं, संस्कृतिकर्मी, समाजसेवी, एक्टिविस्ट, पत्रकार, पुलिसकर्मी, श्रमिक व अन्य लोगों को श्रद्धांजलि दी. 

बावजूद इसके झारखंड का दुर्भाग्य रहा कि इस दौरान भी भाजपा नेताओं ने सदन को बाधित करने की कोशिश की. क्या दिवंगत लोगों को दी जा रही श्रद्धांजलि को एक मर्यादित तरीके से नहीं होने दिया जा सकता था? जिन भाजपा नेताओं ने अपने व्यवहार सदन की गरिमा का हरण किया. झारखंड की जनता ने उन तमाम कृत्यों को सोशल मीडिया पर देखा. ऐसे में सवाल है कि उनके बीच क्या सन्देश गया होगा?

मुख्यमंत्री ने मानसून सत्र के दौरान फिर बड़े जननेता के चरित्र का उदाहरण पेश किया

बहरहाल, पूरे प्रकरण का संतोषजनक पहलू यह रहा कि मुख्यमन्त्री हेमन्त सोरेन ने इस घटना को अच्छे ढंग से संभाला. भाजपाईयों की उद्दंडता मुख्यमन्त्री हेमन्त सोरेन की सहज, सरल और सज्जन छवि के तले दब गई. उन्होंने एक बार फिर बड़े जन नायक होने की मिसाल पेश की है. उन्होंने फिर एक बार झारखंड के जननेता का चरित्र और व्यवहार का उदाहरण पेश किया है.  

गौरतलब है कि लगभग एक सप्ताह तक चलनेवाले इस विधानसभा मानसून सत्र में राज्य से जुड़े महत्वपूर्ण सवालों पर चर्चा होना है. जिससे राज्य की जनता का हित जुड़ा है. अगर विपक्ष अपनी सकारात्मक उपस्थिति दर्ज करायेंगे तो सत्र से राज्यहित में महत्वपूर्ण सवालों पर चर्चा हो सकेगी. और यह राज्य की जनता के विकास के मद्देनजर एक और कदम बढ़ाने के जैसा होगा. साथ ही लोगों का लोकतांत्रिक व्यवस्था के प्रति विश्वास और बढ़ेगा. उम्मीद है कि सत्र में विपक्ष भी अपनी सार्थक भूमिका में दिखेगा.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.