हेमंत सोरेन

Jharkhand CM hemant soren : संकट के दौरान अपने नेतृत्व का लोहा मनवाया

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इस संकट के दौरान देश भर में बेजोड़ नेतृत्व का उदाहरण पेश किया है। प्रवासी मज़दूरों की वापसी से लेकर राज्य के ग़रीबों को भोजन उपलब्ध कराने तक, इन्होंने अपने नेतृत्व का लोहा मनवाया है।

अपने मजबूत विश्वासों के माध्यम से, उन्होंने समस्या से लड़ते हुए नए अनुभव और नए ज्ञान प्राप्त किए और तथ्यों का सामना किया। और जीवन की वास्तविकता को स्वीकार करते हुए मन हमेशा खुला रखा। शायद यही वजह है कि इस दौरान उनके द्वारा लिए गए हर कठोर निर्णय राज्य के लिए मिल का पत्थर साबित हुए।

आज यह कहा जा सकता है कि जीवन के मामले में, हेमंत सोरेन ने यह साबित कर दिया है कि न केवल अच्छे पत्ते बल्कि खराब पत्तों से भी अच्छा खेला जा सकता है। तभी उन्हें देश भर के बुद्धिजीवियों से सराहना मिल रही है। 

हेमंत सोरेन के बारे में इंडिया टुडे  का लेख 

हेमंत सोरेन

इंडिया टुडे ने अपने 1 जून के के लेख –‘Hands-on’ Hemant leads the charge” में लिखा कि जब 29 मई की शाम को लद्दाख के प्रवासी मज़दूरों ने झारखंड की धरती पर कदम रखा। उन्होंने न केवल वहां मौजूद अपने दादा मुख्यमंत्री (हेमंत सोरेन) को नमन किया, बल्कि अपनी बोली में कुशल होने की भी खबर दी। यह किसी जनता के अपने जिम्मेदार मुख्यमंत्री पर विश्वास दर्शाता है।

साथ ही यह भी लिखा कि शायद यह देश के पहले मुख्यमंत्री हैं जो रात में नियमित रूप से राजधानी की सड़कों पर ड्राइव कर नियमों के निगरानी करते देखे गए हैं। और 31 मार्च को, जब झारखंड ने राँची के मुस्लिम बहुल क्षेत्र हिंदपीरी में अपना पहला कोविद -19 मामला दर्ज किया। तब डॉक्टरों की सलाह की परवाह न करते हुए निवासियों के डर को दूर करने के लिए श्री सोरेन ने वहां की यात्रा की।

ठीक चार हफ्ते पहले, यह दृश्य राँची रेलवे स्टेशन पर भी देखा गया था। जब पहली विशेष श्रमिक ट्रेन प्रवासियों को लेकर झारखंड पहुंची। तब राज्य के एक वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी ने यही माहौल महसूस कर कहा था, “यह हेमंत सोरेन के सक्रिय नेतृत्व का एक पैमाना है।”

Jharkhand CM hemant soren को लेकर बुद्धिजीवियों के ट्वीट

@ajitanjum (वरिष्ठ पत्रकार), May 30 लिखते हैं 

हवाई चप्पल वालों को हवाई जहाज़ में देखने के अपने सपने का जिक्र तीन साल पहले पीएम मोदी ने किया था . उनका सपना तो भाषण तक सीमित रह गया @HemantSorenJMM

 ने ये कर दिखाया है. लेह और अंडमान से हवाई चप्पल वाले हवाई जहाज़ में झारखंड पहुंचे हैं 

@neeleshmisra, (स्टोरी टेलर) May 29 लिखते हैं

What a beautiful gesture — and I also saw you welcome them personally 

@HemantSorenJMM ji. I have been in the Kargil region during the war as a reporter and I know that for an outsider, if wound mean the world to just get home from so far away.

@YRDeshmukh, May 29 लिखते हैं 

Well done @HemantSorenJMM ! Not just that it is important to do so, but equally important is the message that air lifting is not a thing doable only for the migrants abroad.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने किया भ्रष्टाचार के खिलाफ आग़ाज 

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भ्रष्टाचार के खिलाफ हमला बोला है। मुख्यमंत्री ने विभिन्न मामलों में जांच के आदेश दिए हैं।

  1. प्रधान डाक घर और टाउन सब पोस्ट ऑफ़िस में फ़र्ज़ी निकासी मामले की सीबीआई जांच कराने की मंजूरी दी है। मामला 11 करोड़, 64 लाख, 38 हजार 635 रुपये की फ़र्ज़ी निकासी से संबंधित है। गिरिडीह टाउन पुलिस स्टेशन में धोखाधड़ी के मामले में प्राथमिकी दर्ज है।
  2. सब रजिस्ट्रार रहते हुए जमीन की बिक्री व अन्य दस्तावेज़ों के पंजीकरण के लिए रिश्वत मांगने की शिकायत मिलने के बाद गुमला के सब-रजिस्ट्रार राम कुमार मधेशिया के खिलाफ जांच के आदेश दिया गया है।
  3. दुमका के तत्कालीन मुख्य जिला और सत्र न्यायाधीश पर भारतीय वन अधिनियम -1927 और भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम -988 की विभिन्न धाराओं के तहत एफ़आईआर दर्ज की है। ओम प्रकाश सिंह के खिलाफ एसीबी को जांच के आदेश दिए गए हैं। इस मामले में एसीबी को जांच के आदेश दिए गए हैं। 
  4. एसीबी धनबाद नगर निगम में, 14 वें वित्त आयोग योजना में 200 करोड़ रुपये के अनुमानित घोटाले की जांच करेगी। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने इसकी जांच के आदेश दे दिए हैं। 14 वें वित्त आयोग की राशि से धनबाद नगर निगम में 40 सड़कों को मंजूरी दी गई थी। जिसमें निर्माण और गुणवत्ता से संबंधित शिकायतें सामने आयी हैं।

Conclusion, अंत में, 

किसी ने कहा है, एक मजबूत समाज वह है जिसकी तरुणाई सबल है। जो मृत्यु का चयन करने की क्षमता रखता है। जिसमें भविष्य के सपने व  कुछ कर गुजरने की भावना हो। इस संकट में Jharkhand CM hemant soren (हेमंत सोरेन) में वही तरुणाई का रूप दिखा है।

Jharkhand CM hemant soren

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp