सीपी ग्राम एवं समाचार पत्रों में आए मनरेगा मामले नहीं होंगे नज़रअंदाज़, अविलंब होगी कार्रवाई

मनरेगा के सफल क्रियान्वयन व मनरेगा मामले में शिकायतों को लेकर ग्रामीण विकास विभाग, सचिव डॉ मनीष रंजन ने की सभी उप विकास आयुक्तों के साथ वर्चुअल बैठक…

  • सीपी ग्राम एवं सामाचार पत्रों में प्रकाशित मनरेगा मामले में शिकायतों को लेकर पदाधिकारियों को किया निर्देशित
  • मनरेगा की समीक्षा कर उप विकास आयुक्तों को सौंपे टास्क
  • मनरेगा आयुक्त ने सामाजिक अंकेक्षण के क्रम में प्राप्त मामलों पर कार्रवाई नहीं होने जताई नाराजगी

मनेरगा योजनाओं के सफल क्रियान्वयन को लेकर ग्रामीण विकास विभाग सचिव, डॉ मनीष रंजन ने राज्य के सभी उप विकास आयुक्तों के साथ वर्चुअल बैठक की. बैठक में सचिव द्वारा मनरेगा कार्य का ससमय निष्पादन को लेकर टास्क सौंपा गया. इस दौरान उन्होंने स्पष्ट कहा कि मनरेगा कार्य या मनरेगा मामले में शिकायतों में किसी प्रकार की लापरवाही नहीं हो, मनरेगा का उद्देश्य रोज़गार सृजन है. योजनाएं संचालित कर ग्रामीणों को रोजगार मुहैया करवाना सुनिश्चित करें.

मनीष रंजन ने एरिया ऑफिसर ऐप (Area Officer App) के माध्यम से सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, प्रखंड कार्यक्रम पदाधिकारी, सहायक अभियंता एवं कनीय अभियंता को 50-50 चालू योजनाओं का प्रतिमाह निरीक्षण करने एवं उसका प्रतिवेदन ऐप पर अपलोड करने का सख़्त निदेश दिया. उन्होंने सभी ग्राम पंचायतों में मेठ के माध्यम से मास्टर रोल में निहित मज़दूरों की उपस्थिति NMMS App के माध्यम से Capture करते हुए अपलोड करने का भी निदेश दिया.

सामाजिक अंकेक्षण के क्रम में प्राप्त मामलों पर कार्रवाई नहीं होने पर नाराज़गी

मनरेगा आयुक्त ने सामाजिक अंकेक्षण के क्रम में प्राप्त मामलों पर कार्रवाई नहीं होने पर नाराज़गी व्यक्त की. साथ ही निर्णय के अनुसार राशि की वसूली करते हुए ATR MGNREGA SOFT पर अपलोड करने का सख़्त निदेश दिए. विभागीय सचिव ने कहा कि मनरेगा के माध्यम से आम नागरिकों को रोजगार उपलब्ध कराने की दिशा में बेहतर कार्य किया जा रहा है. ग्रामीण परिवारों को निश्चित रोज़गार उपलब्ध कराकर, उन्हें मुख्यधारा में शामिल किया जा रहा है, जिससे उनकी आमदनी बढ़े और उनके क्षेत्र का सतत विकास हो सके. इसलिए सभी को इस दिशा में बेहतर कार्य करने की आवश्यकता है और जो लोग बेहतर कार्य कर रहे हैं, उन्हें प्रोत्साहित भी करना है.

एक सप्ताह में मिली शिकायतों का करें निष्पादन

शिकायतों की समीक्षा के क्रम में पदाधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिए कि मनरेगा मामले में अबतक जितनी भी शिकायतें सीपी ग्राम एवं समाचार पत्रों पर मिली है उसका निष्पादन एक सप्ताह के अंदर करना सुनिश्चित करें. मनरेगा आयुक्त ने कहा कि मनरेगा के तहत आयी शिकायतों से ही हमें यह जानकारी मिलती है कि मनरेगा कार्य का उद्देश्यपूर्ण हो रहा है कि नहीं. उन्होंने सभी पदाधिकारियों को प्राप्त शिकायतों को नजरअंदाज नहीं करने बल्कि प्राथमिकता के साथ उसका जांच कर निष्पादन करने का निर्देश दिया.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.