हेमन्त सोरेन ने क्यों कहा, ‘झारखण्डियों को उनका अधिकार मिले, सरकार-अधिकारी साइकिल-ट्रैक्टर से पहुंच रहे हैं उनके पास’

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp

झारखण्ड : शीतकालीन सत्र 2021 के अंतिम दिन सीएम का समापन भाषण सवा तीन करोड़ झारखण्डियों के अधिकारों की पूर्ति पर रहा केंद्रित कहा सरकार-अधिकारी साइकिल-ट्रैक्टर से पहुंच रहे हैं उनके पास’

रांची : झारखण्ड विधानसभा की शीतकालीन सत्र – 2021 को भाजपा नेताओं द्वारा बाधित करने की भरपूर प्रयास हुए. लेकिन, सत्र में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने ऐसी बात कही, जिसकी कल्पना बिना बिजन वाले नेताओं ने नहीं की थी. सत्र के अंतिम दिन, समापन भाषण में मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखण्डियों को उनका अधिकार मिले और सरकार की योजना उन क्षेत्रों तक पहुंचे, जहां अबतक पहुँच नहीं पाते थे, इसलिए सरकार-अधिकारी आज साइकिल-ट्रैक्टर से उनके पास पहुंच रहे हैं. 

दरअसल हेमन्त सरकार की महत्वाकांक्षी कार्यक्रम ‘आपके अधिकार – आपकी सरकार – आपके द्वार’ के तहत आज सरकार गांव-गांव में कैम्प लगाकर लोगों की समस्याओं का निपटारा कर रही है. जहां गाड़ी पहुँचने की सुविधा नहीं है, वहां अधिकारी साइकिल-ट्रैक्टर से पहुंचकर जनता को उनके अधिकार सेलाभान्वित कर रहे हैं. विधानसभा सदन में सीएम का यह समापन भाषण पूरी तरह से झारखण्ड की सवा तीन करोड़ लोगों पर केंद्रित था. भाषण में सीएम द्वारा तमाम कल्याणकारी योजनाओं का जिक्र किया गया. 

प्राप्त 25 लाख से अधिक आवेदनों का शत-प्रतिशत निपटारे का हो रहा प्रयास

आवेदन राज्य में चले आपके अधिकार, आपकी सरकार, आपके द्वार कार्यक्रम ने ऐसी उपलब्धि हासिल की है, वह शायद विपक्ष को इउम्मीद थी. सीएम हेमन्त सोरेन ने स्वंय बताया है कि पूरे राज्य में अब तक 5200 से अधिक शिविर आयोजित किए गए, जिसमें अब तक 25 लाख से अधिक आवेदन प्राप्त हुए हैं. प्राप्त आवेदनों का शत-प्रतिशत निष्पादन करने के लक्ष्य के साथ काम किया जा रहा है. कार्यक्रम को लेकर सीएम ने विपक्ष को खुली चुनौती तक दे डाली. कहां कि ‘जो आपके द्वार कार्यक्रम में नहीं जाएगा वो दोबारा इस सदन में नहीं आएगा.’ 

पहली बार सरकार आम जनता के बीच जाकर सुन रही है उनकी शिकायतें

ज्ञात हो, सरकार ने बीते 15 नवंबर को राज्य स्थापना दिवस पर विभिन्न सरकारी योजनाओं तक जरूरतमंद लोगों की पहुंच आसान करने और राशन कार्ड, किसान क्रेडिट कार्ड, पेंशन योजना, जॉब कार्ड सहित विभिन्न तरह के आवेदनों का मौके पर निपटारा करने के लिए ‘आपके अधिकार, आपकी सरकार, आपके द्वार’ अभियान शुरू किया था. कार्यक्रम के सकारात्मक परिणाम भी सामने आए हैं. सभी जिलों में बड़ी संख्या में आम जन की समस्याओं का त्वरित समाधान हो रहा है और लोगों में इससे भारी उत्साह है. झारखण्ड राज्य बनने के बाद, पहली बार, सरकार आम जनता के बीच जाकर, उनकी शिकायतें सुन रही है, और हर दिन हजारों लोगों को उनका अधिकार मिल रहा है. 

सभी को पेंशन और आंदोलनकारियों के आश्रितों को आरक्षण भाषण का केंद्र बिंदु

अपने समापन भाषण में सीएम ने कई घोषणाएं की, जो झारखण्डियों के हित में था. इसमें सभी झारखण्ड आंदोलनकारियों को पेंशन और आश्रितों के लिए सरकारी नौकरी में 5% आरक्षण देने की घोषणा शामिल हैं. सीएम ने राज्यवासियों से यहां तक कहा, कि वे धैर्य से रहें. उनकी समस्या समाधान लायक होगी तो सरकार जरूर करेगी. उन्होंने यूनिवर्सल पेंशन स्कीम का भी जिक्र किया. कहा, योजना के तहत राज्य सरकार क्षमता के अनुरूप सभी वर्गों के लोगों को पेंशन का लाभ दे रही है. राज्य के 60 से अधिक उम्र के सभी योग्य लोगों और दिव्यांगों को पेंशन दिया जा रहा है.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.