झारखण्ड : आजीविका को बढ़ावा देने के लिए तसर फार्मिंग की होगी शुरुवात – मनीष रंजन

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
मनीष रंजन

ग्रामीण विकास विभाग के सचिव मनीष रंजन ने कहा है कि राज्य के आदिवासी बहुल क्षेत्र में आजीविका उन्नयन हेतु तसर आधारित आजीविका को बढ़ावा देने के लिए राज्य सरकार तसर फार्मिंग को योजना के रूप में लागू करेगी. ये बातें तसर विकास फाउंडेशन के पदाधिकारियों के साथ हुई बैठक में विभागीय सचिव मनीष रंजन ने कही.

विभागीय सचिव मनीष रंजन ने कहा कि इस योजना के तहत जरूरतमंद परिवारों को मिल सके इसके लिए लाभुकों को प्रशिक्षण तो दिया जायेगा. साथ ही मनरेगा अंतर्गत बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत पोषक पौधों के लिए वृक्षारोपण की सुविधाएं भी प्रदान करवाई जाएंगी. योजना की शुरुवात बिरसा हरित ग्राम योजना के तहत प्रथम चरण में पांच जिलों में 500-500 एकड़ में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू की जाएगी.

मनरेगा आयुक्त श्रीमती राजेश्वरी बी ने इस संबंध में तसर विकास फाउंडेशन के पदाधिकारियों से तसर विकास के लिए व्यापक योजना के संबंध में भी बात की और निर्देश दिया की राज्य में तसर के क्षेत्र राज्य में क्या संभावनाएं हैं. और विशेषज्ञों व सिविल सोसायटी के साथ बैठकर एक राज्यस्तरीय कार्यशाला का आयोजन सुनिश्चित किया जाए ताकि तसर में संभावनाओं से संबंधित बिंदुओं  विस्तृत चर्चा की जा सके. बैठक में मुख्य रूप से तसर विकास फाउंडेशन के आशीष चक्रवर्ती, प्रदान संस्था से प्रेम शंकर उपस्थित थे.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.