कोल्हान :चाईबासा में ‘आपके…द्वार’ कार्यक्रम -मेगा ऋण, परिसंपत्ति, अनुदान व नियुक्ति पत्र वितरण  

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
चाईबासा

मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन द्वारा कोल्हान प्रमंडल के चाईबासा में आयोजित ‘आपके अधिकार-आपकी सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम में मेगा ऋण, परिसंपत्ति, अनुदान व नियुक्ति पत्र वितरण 

कार्यक्रम में कोल्हान प्रमंडल के पश्चिमी सिंहभूम, पूर्वी सिंहभूम और सरायकेला-खरसावां के 5 लाख 34 हजार 752 लाभुकों के बीच 14 अरब 43 करोड़ राशि की परिसंपत्तियों का वितरण.

सरकार आई है आपके द्वार, ताकि किसान मजबूत, गांव समृद्ध और ग्रामीण अर्थव्यवस्था सशक्त हो सके। हम मिलकर राज्य को अपने हाथों से संवारेंगे। सभी दिव्यांग की पहचान कर उन्हें पेंशन देगी सरकार।

हेमन्त सोरेन, मुख्यमंत्री, झारखण्ड

झारखण्ड में नौजवान राज्य को मान-सम्मान के साथ आगे बढ़ाने में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं

चाईबासा : मुख्यमंत्री कोल्हान प्रमंडल के चाईबासा में आयोजित ‘आपके अधिकार-आपकी सरकार आपके द्वार’ कार्यक्रम में मेगा ऋण, परिसंपत्ति, अनुदान और नियुक्ति पत्र वितरण कार्यक्रम में शामिल हुए. मुख्यमंत्री ने जन संबोधन में कहा कि झारखण्ड में नौजवान राज्य को मान-सम्मान के साथ आगे बढ़ाने में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं. राज्य के युवाओं को सरकार संकल्प के साथ रोजगार और व्यापार में सहयोग करेगी. झारखण्ड की आने वाली पीढ़ी, कृषक, श्रमिकों के चेहरे पर मुस्कान हो. मेरा मानना है कि ग्रामीणों को सरकारी व्यवस्था के प्रति थोड़ी निराशा होती है. उस निराशा को मिटाने और विश्वास जगाने के उद्देश्य से सरकार आपके द्वार आई है.

चूँकि ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सशक्त करने के लिए जनभागीदारी अति जरूरी है. मसलन, यह कार्यक्रम जरूरतमंदों को योजनाओं से आच्छादित करेगा. कार्यक्रम तक पदाधिकारी सुदूर गांव तक पहुंचेंगे. ग्रामीणों की समस्याओं का समाधान उनके द्वार पर करेंगे. देश के अन्य राज्य अपनी परंपरा संस्कृति के साथ आगे बढ़ रहें हैं. हमें भी तेजी से आगे आगे बढ़ना होगा, नहीं तो हम पीछे छूट जाएंगे. अतः आप सभी से आग्रह है आगे आएं और योजनाओं का लाभ लें. 

मुख्यमंत्री ने कहा संक्रमण काल से झारखण्ड बाहर निकल रहा है. संक्रमण के दौरान राज्य को दिशा देने की कार्ययोजना बनी. इसका प्रतिफल है कि सरकार आपके द्वार योजनाएं लेकर आई है. जिसके तहत महज चंद मिनटों में समस्या का समाधान हो रहा है. झारखण्ड वीरों की भूमि है. आदिवासी, मूलवासी, जल, जंगल और जमीन की रक्षा एवं लोगों के अधिकारों के लिए यहां के वीर सपूतों ने खुद को कुर्बान कर दिया. उनका बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा. मसलन, उनके सपनों को पूरा करने के लिए सरकार जरूरतमंदों के दरवाजे तक पहुंच रही है.

राज्य में स्किल यूनिवर्सिटी की स्थापना जल्द

मुख्यमंत्री – झारखण्ड में जल्द स्किल यूनिवर्सिटी की स्थापना होगी. जहां नौजवानों को हुनरमंद बनाकर रोजगार से जोड़ने की पहल होगी. स्थानीय भाषाओं को प्राथमिकता के साथ परीक्षाओं में शामिल किया गया है. युवा अपनी भाषा से साथ आगे बढ़े सकते हैं. दो दिन पूर्व सरकार ने बैंक प्रबंधन से पूछा क्यों आदिवासी समुदाय को लोन नहीं मिलता है. बैंक प्रबंधन लीक से हटकर व्यवस्था करें ताकि आदिवासी समुदाय व्यापार समेत अन्य क्षेत्र में आगे बढ़ सके.

राज्य में अब दिव्यांग जनों की पहचान जल्द होगी

मुख्यमंत्री – यह विडंबना है कि 20 वर्ष में दिव्यांग जनों की पहचान नहीं हो सकी है.सरकार सभी दिव्यांग को पेंशन योजना से जोड़ने का कार्य कर रही है. ऐसे में सभी दिव्यांगजनों की पहचान कर उन्हें पेंशन दिया जाएगा. इस कार्यक्रम में कोरोना से मृत परिवार के मुखिया के आश्रितों को 50 हजार रुपये सहयोग राशि देने का कार्य सरकार कर रही है. और यह कार्य सभी जिलों में किया जा रहा है.

इस अवसर पर मंत्री आलमगीर आलम, मंत्री चम्पई सोरेन, मंत्री श्रीमती जोबा मांझी, मंत्री सत्यानंद भोक्ता, मंत्री हफीजुल अंसारी, सिंहभूम सांसद श्रीमती गीता कोड़ा, पूर्व मुख्यमंत्री मधुकोड़ा, विधायकगण, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव, विभिन्न विभागों प्रधान सचिव, सचिव, कोल्हान प्रमंडल के उपायुक्त, पुलिस अधीक्षक, पदाधिकारीगण, विभिन्न गांव और पंचायतों से आये ग्रामीण एवं लाभुक उपस्थित थे.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.