बेटियों

बेटियों की स्मिता से रोज हो रहे हैं खिलवाड़, सरकार व्यस्त योग दिवस के आयोजन में

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

अब तो झारखंड में शायद ही कोई ऐसा दिन गुजरता है जब बेटियों के साथ अत्याचार, छेड़छाड़ बलात्कार, व हत्याएँ जैसी घटनाएँ न घटती हो। कभी कोई महिला घरेलू हिंसा का शिकार होती है, कभी उनकी इस्मिता से खिलवाड़ होती है। अभी 22 मई को सिमडेगा जिले में ही बानो पुलिस ने पांगुर जंगल से एक महिला का अधजला शव बरामद किया था पुलिस के अनुसार, महिला की हत्या कर साक्ष्य छिपाने की नीयत से उसका शव को जला दिया गया था

महिला थाना पुलिस ने नाबालिग लड़की के अपहरण मामले में एक युवक को गिरफ्तार कर जेल भेजा दिया इस लड़के पर आरोप है कि 21 मई को बंबलेकेरा ठेठइटांगर निवासी एक नाबालिग लड़की का अपहरण कर लिया बताया गया इसके बाद कोलेबिरा पुलिस ने बरसलोया पंचायत के पूर्णापानी ग्राम के समीप जंगल से एक अज्ञात महिला का शव बरामद किया पुलिस के अनुसार, अज्ञात महिला की उम्र लगभग 35 वर्ष है और मृतका के सिर पर धारदार हथियार से हमले किये जाने के  निशान निशान मिले हैं

इन मामलों से अभी सिमडेगा संभला भी नहीं था कि कुरडेग प्रखंड के खिंडा पंचायत के कुसियार पानी गांव में शादी में पहुंची एक 11 साल को लड़की को अपहरण कर दुष्कर्म किया गया बुधवार सुबह तीन बजे कुसियार पानी गांव के ही दो लोगों ने लड़की के मुंह में कपड़ा बांधकर जबरन जंगल ले जाकर बारी-बारी से दुष्कर्म कियाबाद में उन युवकों ने उसे गांव के करीब छोड़कर भाग गये

बहरहाल,  उपरोक्त सभी रिपोर्ट सिमडेगा जिले के है फिर भी झारखंड सरकास्त्री-विरोधी अपराधों को रोकने में पूरी तरह विफल है। सरकार इन घटनाओं को रोकने के लिए प्रेस कोंफ्रेंस करने के बजाय आगामी चुनाव को देखते हुए अपना चेहरा चमकाने हेतु योग दिवस का आयोजन करने में दिलचस्पी दिखा रही है। सरकार चाहे तो इन तामझाम से परे बेटियों संग होने वाली दुर्घटनाओं  रोक लगा सकती है लेकिन ऐसा कर नहीं रही!

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts