झारखण्ड : सीएम के नेतृत्व में लाखों मजदूरों की वापसी -सरकार को करती है परिभाषित

झारखण्ड : चेतलाल महतो, फुचा महली समेत लाखों मजदूरों की हेमन्त सरकार में हुई है सुरक्षित घर वापसी. साथ ही लगभग 2 करोड़ रुपये का बकाया भुगतान कराया गया है. और यह सिलसिला निरंतर जारी है. लेह एवं केरल में शुरू होगा प्रवासन केंद्र.

रांची : हजारीबाग-विष्णुगढ़ के चानो गांव निवासी चेतलाल महतो को मलेशिया से ना घर वापसी की उम्मीद थी और ना ही मजदूरी के भुगतान का भरोसा. सभी प्रयास विफल हो जाने के बाद उन्होंने अपने साथियों के साथ हेमन्त सरकार से घर वापसी की गुहार लगाई. मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के आदेश के बाद श्रम विभाग व सेफ रिस्पॉन्सिबल माइग्रेशन सेंटर के संयुक्त प्रयास से सभी 30 श्रमिकों की घर वापसी हुई. बकाया मजदूरी का भी भुगतान हुआ. सभी अपने गांव में परिजनों के साथ खुशी से रह रहे हैं. मुख्यमंत्री के आदेश के बाद बंधुवा मजदूर का जीवन जी रहे फुचा महली की घर वापसी 35 साल बाद अंडमान से हुई. ऐसी ही लाखों मजदूरों की देश-विदेश से घर वापसी हेमन्त सरकार की संवेदनशीलता दर्शाती है.

मजदूरों के दो करोड़ रुपये बकाया राशि का हुआ भुगतान

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्त्व में श्रम विभाग और राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष के प्रयास से ना सिर्फ लाखों मजदूरों की सुरक्षित घर वापसी हुई, बकाया पारिश्रमिक का भुगतान भी हुआ है. 27 मार्च 2020 से 30 जून 2022 तक 2,27,16,858.62 रुपये विभिन्न कंपनियों से 3,108 मजदूरों के मजदूरी का भुगतान कराया गया है. साथ ही, राज्य के करीब 168 मृत श्रमिकों के परिजनों को 6,39,31,972 रुपये का भुगतान कराया गया.

झारखण्ड सरकार में निरंतर चल रहा मजदूरों के लिए मदद का यह अभियान

झारखण्ड सरकार के श्रम विभाग के श्रमाधान पोर्टल में मजदूर पंजीकरण व प्रवासी पंजीकरण और उससे प्राप्त होने वाली योजनाओं के लाभ को लेकर प्रत्येक जिले में राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष द्वारा पंजीकरण, जागरूकता एवं प्रचार प्रसार किया जा रहा है. राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष द्वारा मजदूर पंजीकरण व प्रवासी पंजीकरण में जागरूकता के अतिरिक्त प्रवासी मजदूरों का रेस्क्यू, निधन होने पर प्रवासी मजदूरों के शव की वापसी, मजदूरों का बकाया राशि आदि दिलाने के अलावा उनके पुनर्वास को लेकर प्रधानमंत्री आवास योजना, पेंशन योजना राशन कार्ड आदि लाभों से जोड़ने का कार्य भी हो रहा है. 

साथ ही सुरक्षित और जिम्मेदार प्रवासन की पहल करते हुए 3 जिलों में सुरक्षित और जिम्मेदार प्रवासन केंद्र बनाया गया है, जिसमें गुमला, पश्चिमी सिंहभूम और दुमका शामिल है. वहीं अन्य राज्यों में, लेह एवं केरल में प्रवासन केंद्र खुलने जा रहा है. श्रमिकों की मदद के लिए पिछले साल शुरू हुआ यह अभियान अब भी चल रहा है. इसके लिए राज्य प्रवासी नियंत्रण कक्ष लगातार सक्रिय है. श्रमिकों के लिए सात लैंड लाइन और 5 व्हाट्सएप नंबर जारी किए गए हैं. ये नंबर हैं –0651-2481055, 0651-2480058, 0651-2480083, 0651-2482052, 0651-2481037,0651-2481188,18003456526, 9470132591, 9431336427, 9431336398, 9431336472, 9431336432

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.