राज्य के मुखिया पेश कर रहे सामाजिक सौहार्द की अनूठी मिसाल

सर्वधर्म समभाव नीति पर चल राज्य के मुखिया पेश कर रहे सामाजिक सौहार्द की अनूठी मिसाल

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

सर्वधर्म समभाव की अनूठी मिसाल पेश करते हुए हिंदू, मुस्लिम, आदिवासी, बौद्ध, सिख सभी के सुख-दुख का साथी बन रहे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन

रांची। हेमंत सोरेन सरकार के सत्ता में आने के बाद, राज्य की राजनीतिक व सामाजिक परिदृश्य में कई बदलाव देखे जा रहे हैं। सबसे बड़ा बदलाव राज्य में सामाजिक सौहार्द को लेकर देखा जा सकता है। हेमंत सरकार के सत्ता में आने के पहले राज्य की पहचान कुछ अलग ही बना दी गयी थी। जिसके कारण देश-दुनिया में झारखंड की आत्मा से इतर कुछ और पहचान बन गयी थी। 

जेएमएम नेता सह कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन विधानसभा चुनाव के पहले जैसा कहते रहे थे कि उनकी सरकार में सभी धर्मों को समान तौर पर व्यवहार किया जाएगा। आज वह मुख्यमंत्री के तौर पर चरितार्थ भी कर रहे हैं। वह न केवल अपने वादे को पूरा करने में सफल हुए, बल्कि सर्वधर्म समभाव की नीति पर चल झारखंड में सामाजिक सौहार्द की अनूठी मिसाल भी पेश किया है। कोरोना काल से ही मुख्यमंत्री हर धर्म के लोगों के साथ समान भाव रखते हुए उनके पर्व त्यौहार में एक घर के मुखिया के भांति शामिल हो रहे हैं। जो सर्वधर्म समभाव की अनूठी मिसाल है

हिंदू धर्म के प्रतिनिधिमंडलों की सुनी समस्या, निदान का दिया भरोसा

सावन माह के ठीक पहले 1 जुलाई को मुख्यमंत्री देवघर स्थित पंडा धर्मरक्षिणी सभा प्रतिनिधिमंडल से खुले दिल से मिले। इस दौरान उन्हें सावन जैसे पावन माह में बाबा बैद्यनाथ धाम मंदिर बन्द रहने से उत्पन्न होने वाली परेशानियों से अवगत कराया था। सीएम ने प्रतिनिधिमंडल को आर्थिक सहायता देने की बात कही। अक्टूबर माह में ही नवरात्र के ठीक पहले मुख्यमंत्री श्री सोरेन से रांची जिला दुर्गा पूजा समिति एवं रांची महानगर दुर्गा पूजा समिति के एक प्रतिनिधिमंडल ने संयुक्त रूप से मुलाकात की। प्रतिनिधिमंडल की समस्याओं को सुनकर उन्होंने हर स्तर पर पूजा समितियों को मदद आश्वासत किया था। 

कोरोना काल में ईसाई समुदाय द्वारा किये कार्यों की सराहना की

कोरोना काल में कई मौकों पर ईसाई समाज के प्रतिनिधिमंडल की मुख्यमंत्री से शिष्टाचार मुलाकात हुई। 1 जुलाई को उन्होंने जमशेदपुर ईसाई समाज के प्रतिनिधिमंडल से मिले और उनके समक्ष आने वाली समस्याओं को सुना। प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री को झारखंड अल्पसंख्यक आयोग के गठन को लेकर अपने विचारों से अवगत कराया, जिस पर हेमंत सोरेन ने गंभीरता से विचार करने की बात कही।

23 सितंबर को हेमंत ने कैथोलिक डायसिस ऑफ जमशेदपुर के प्रशासक बिशप टेलेस्फोर बिलुंग से मुलाकात की। सीएम ने कैथोलिक डायसिस ऑफ जमशेदपुर द्वारा कोविड-19 से बचाव के संबंध में किए जा रहे कार्यों की पूरी जानकारी ली। इस दौरान कैथोलिक डायसिस ऑफ जमशेदपुर के प्रशासक ने कोविड-19 से जारी लड़ाई से निपटने के लिए सीएम राहत कोष के लिए 7 लाख रुपए की राशि का चेक भी दिया। 

आदिवासी समाज के हित में उठा रहे हर संभव कदम

इसी प्रकार मुख्यमंत्री ने कई बार आदिवासी समाज के प्रतिनिधियों से मुलाकात की। रांची जिले के तमाड़ प्रखंड स्थित दिउड़ी दिरी (दिउड़ी-पत्थर) की दान पेटी को सील करने के मामले में सीएम ने आदिवासी समाज के समस्याओं को सुन उचित कार्रवाई का भरोसा दिया। कई वर्षों से लंबित सरना आदिवासी धर्म कोड मांग को पूरा करने का ऐतिहासिक कदम भी हेमंत सरकार ने उठाया। 

अंतरराष्ट्रीय बौद्ध महोत्सव के लिए विचार का आश्वासन

हेमंत सोरेन ने अंतरराष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ के महासचिव भदन्त डॉ धर्मप्रिय भिक्षु से भी मुलाकात की। भदन्त डॉ धर्मप्रिय भिक्षु द्वारा 2021 में झारखंड में एक अंतरराष्ट्रीय बौद्ध महोत्सव के विचार पर हेमंत ने विचार करने व हर संभव मदद देने की बात कही है। झारखंड में जहां पुरातत्व बौद्ध संस्थान है उसे पर्यटन स्थल के रूप में विकास किए जाने की मांग पर विचार करने की बात भी मुख्यमंत्री ने कही है।  

दरगाह पर चादरपोशी कर राज्य की अमन, चैन व तरक्की की मांगी दुआ

सामाजिक सौहार्द की अनूठी मिसाल पेश करने वाले मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने, राजधानी रांची के डोरंडा स्थित हजरत कुतुबुद्दीन रिसालदार बाबा की दरगाह पर राज्य की जनता के भलाई के लिए चादरपोशी की। उर्स के मुबारक मौके पर चादरपोशी करते हुए मुख्यमंत्री ने राज्य में अमन, चैन एवं तरक्की के लिए दुआएं मांगी। साथ ही कहा कि कुतुबुद्दीन रिसालदार बाबा की दरगाह सामाजिक सौहार्द का प्रतीक है। 

कोरोना काल में राज्य के लिए सिख समुदायों के किये कार्यों की सराहना

नानकसहाय श्री गुरुनानक देव के 551वें जयंती के अवसर पर आयोजित प्रकाश पर्व कार्यक्रम में हेमंत सोरेन उतने ही आस्था के साथ शामिल हुए और समुदाय के लोगों की हौसला अफजाई की। हेमंत ने कहा कि पूरे कोरोना काल में राज्य को मदद पहुंचाने की दृष्टिकोण से सिख समुदाय की भूमिका काफी सराहनीय है। गुरु पर्व के शुभ अवसर पर राज्य सरकार की ओर से मुख्यमंत्री ने सिख समुदाय को बहुत-बहुत बधाई और शुभकामनाएं दी। श्री सोरेन ने कहा कि समुदाय के लोगों के सहयोग का ही परिणाम है कि संकट के इस दौर में भी राज्य आज सकारात्मक दिशा से आगे बढ़ रहा है।

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.