झारखण्ड लॉकडाउन रिपोर्ट कार्ड : 24 अप्रैल तक

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
झारखण्ड लॉकडाउन रिपोर्ट कार्ड

झारखण्ड लॉकडाउन रिपोर्ट कार्ड : झारखण्ड सरकार ने कोरोना पर अपनी 24 अप्रैल 2020 तक का रिपोर्ट कार्ड पेश कर दी है। कोरोना रिपोर्ट कार्ड में पेश आकड़ों के अनुसार विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत 1,05,00,000 लोगों को भोजन प्राप्त हुआ है।

झारखण्ड लॉकडाउन रिपोर्ट कार्ड में किन योजनाओं का हुआ प्रयोग

रिपोर्ट कार्ड के अनुसार, मुख्यमंत्री दीदी किचन योजना जिसकी संख्या राज्य भर में 6628 है। मुख्यमंत्री दाल-भात योजना केंद्र की संख्या 1000 से अधिक है। और पुलिस थाना कमुनिटी सेंटर की गिनती 395 है।

कोरोना रिपोर्ट कार्ड में इन सभी केंद्रों से अब तक लगभग 1,05,00,000 लोगों को भोजन मिलने का दावा किया है।

अनाज वितरण के आंकड़े

झारखण्ड लॉकडाउन रिपोर्ट कार्ड में कहा गया है कि सरकार द्वारा लॉकडाउन के दौरान 67 लाख परिवारों तक पहुँच बनायी। इसके अंतर्गत अब तक उन के बीच 3,00,000 मैट्रिक्स टन अनाज का वितरण हुआ है। जो एक अच्छी खबर हो सकती है। 

35 राज्यों व केन्द्र शासित राज्यों में फंसे प्रवासियों को मिली मदद

रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि राज्य सरकार द्वारा लॉकडाउन के दौरान देश भर के 35 राज्यों व केन्द्र शासित राज्यों में कुल 13500 स्थानों पर रह रहे प्रवासी झारखंडियों तक मदद पहुंचायी गयी।

लॉकडाउन में 1 लाख 11 हज़ार 568 प्रवासी झारखण्ड वासियों को मुख्यमंत्री विशेष योजना के तहत ऐप के माध्यम से 1000 रुपए की आर्थिक मदद भी प्रदान की गयी।

राज्य आकस्मिक आपदा व अन्य कोष

राज्य लॉकडाउन रिपोर्ट कार्ड के अनुसार – 350000 लाख लोगों तक राज्य आकस्मिक आपदा के तहत राहत सामग्री उपलब्ध कराई गयी। वृद्ध, विधवा व दिव्यांगों को राज्य सरकार द्वारा 370 करोड़ तक की सहायता राशि दी गयी। साथ ही प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत जनता को 396 करोड़ तक की राशि प्रदान की गयी।

लॉकडाउन रिपोर्ट में जांच का खुलासा

संपूर्ण प्रदेश में अब तक 7500 लोगों की जांच हुई है। जिसमे – 5743 संक्रमित नहीं की सूची में है। 63 संक्रमित की है  और 8 व्यक्तियों का सकुशल इलाज हुआ है। शेष की रिपोर्ट लंबित है।

रिपोर्ट की माने तो , झारखण्ड 181 लॉकडाउन Response Team ने अब तक 21500 से ज्यादा परिवारों को मदद पहुंचाया है। साथ ही उनके सवाल एवं शिकायतों का निवारण भी किया है। 

बहरहाल, झारखण्ड लॉकडाउन रिपोर्ट कार्ड (jharkhand lockdown report card) के आंकड़ों से यह साफ़ होता कि सरकार झारखण्ड वासियों के लिए कार्य कर रही है। इस संदर्भ में सरकार का यह कहना कि उसका प्रयास आगे और गति पकड़ेगा झारखण्ड के लिए अच्छी खबर तो ज़रूर बयान करती है।   

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.