Welcome to Jharkhand Khabar   Click to listen highlighted text! Welcome to Jharkhand Khabar
  TRENDING
मुफ्त कोरोना वैक्सीन देने का वादा करने वाली भाजपा अपने नेता को ही नहीं बचा सकी
जेलों में बंद कैदियों को सम्मान देने के साथ उनके कुशलता का उपयोग भी करना चाहते हैं मुख्यमंत्री
कृषि इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड -किसानों के राहत के नाम पर आवंटन 1 लाख करोड़ से होगा कॉपोरेट घरानों को फायदा !
समीक्षा बैठक में दिए गए निर्देशों के अनुपालन में क्या हुआ, 15 दिन में रिपोर्ट दें
पत्थलगढ़ी के दर्ज मामलों को वापस लेकर मुख्यमंत्री ने राज्य को बिखरने से बचाया
दबे-कुचले, वंचितों के आवाज बनते हेमंत के प्रस्ताव को यदि केंद्र ने माना तो नौकरियों में मिलेगा आरक्षण का लाभ
टीआरपी घोटाला : लोकतंत्र का चौथे खम्भे मीडिया ने अपनी विश्वसनीयता खोयी
सर्वधर्म समभाव नीति पर चल राज्य के मुखिया पेश कर रहे सामाजिक सौहार्द की अनूठी मिसाल
खाद्य सुरक्षा: आरोप लगा रहे बीजेपी नेता भूल चुके हैं – जरूरतमंदों को 6 माह तक खाद्यान्न देने की सबसे पहली मांग हेमंत ने ही की थी
Next
Prev

झारखंड स्थापना दिवस की शुभकामनाएं

झारखंडी लोगों का बदलाव यात्रा

झारखंडी लोगों को राहत मिलेगी झामुमो की सरकार में

झामुमो की बदलाव यात्रा का सफ़र आगे बढ़ते हुए आज 27 अगस्त 2019 को अपने निर्धारित स्थान पाकुड़ जिले के चर्च मैदान पहुंची। आज भी नेता प्रतिपक्ष हेमंत सोरेन भारी झारखंडी लोगों के भीड़ के बीच मौजूदा सरकार व उनकी नीतियों पर जम कर बरसे। अपने भाषण में उनहोंने भाजपा को एक बिज़नेस करने वाली कंपनी करार दिया। साथ ही झारखण्ड राज्य के प्रति अपनी सोच से जनता को अवगत भी कराया। उनहोंने कहा कि :   

आज भाजपा 50 करोड़ की पार्टी से 1000 करोड़ की पार्टी बन गयी है, यह पार्टी नहीं बल्कि एक कंपनी बन गयी है। पार्टी के पैसे को बट्टा पर लगा कर बिज़नेस करने वाली यह कम्पनी, सभी बैंकों को दिवालिया कर देश को मझधार में धकेलने का काम किया है। ऐसे में हमारे राज्य को ऐसी सरकार की जरूरत है जिसपर सभी धर्म के लोग खुद को सुरक्षित महसूस कर सके। झामुमो ही एक ऐसा दल है, जो राज्य में यह संभव करते हुए विकास कर सकता है, क्योंकि इसकी ऐतिहासिक पटकथा इसकी गवाही देती है। 

आज यह सरकार एक तरफ तो सात जिलों में ओबीसी का हक, उनका आरक्षण 27% के जगह 0% है, लेकिन वहीं सामान्य वर्ग को 10% आरक्षण देने का यह सरकार डींगे हांक रही है

इस राज्य में कुछ सस्ता है तो केवल किसानों की जान और उनके द्वारा उपजाया गया अनाज हमारे राज्य में लगभग एक दर्जन किसानों ने आत्महत्या कर ली है, लेकिन सरकार के आँखों में उनके लिए एक बूँद भी आँसू नहीं हमारी सरकार आने पर राज्य के किसानों को उनका बैंक मिलेगा ताकि राज्य के किसी किसान को दलाल के चुंगुल में न जाना पड़े। साथ ही हमारी सरकार यह भी सुनिश्चित करेगी कि न केवल दाल-चावल-गेहूं का एमएसपी होगा बल्कि साग-सब्जियों का भी एमएसपी तय किया जाएगा और उसी दुकान में बेचने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाएगी, ताकि नगद उन्हें तत्काल मिल सके। ये दुकानें गाँव में ही होंगी और गाँव के लोग इसका संचालन करेंगे। साथ ही राज्य के महिलाओं को उनका 50% आरक्षण के साथ उनको भी उनका बैंक मिलेगा ताकि वे भी सुदृढ़ हो सके।

लिट्टीपाड़ा व अमड़ापाड़ा को झारखण्ड के सबसे पिछड़े इलाक़ो के रूप में चयनित किया गया, जो की राज्य का एक कड़वा सत्य है परन्तु इसकी आड़ में यह सरकार वन बंधु योजना के नाम पर यहाँ के आदिवासी-मूलवासियों को उनके हकों को दरकिनार कर जो अरबों की लूट कर रही है, हमारी सरकार इस लूट पर अविलम्ब विराम लगाएगी। 

यह देख कर दुःख होता है कि यहाँ के सदर अस्पताल में ( X- Ray Machine, Blood test, other machines) जैसी तमाम मूल भूत सुविधाएँ उपलब्ध हैं, मगर इन मशीनों को संचालित (ऑपरेट) करने के लिए न टेक्निशियन है और न ही डॉक्टर उपलब्ध हैं, जिसके कारण यहाँ झारखंडी लोगों का इलाज़ नहीं हो पाता है। यह एक रेफेरल अस्पताल बन कर रह गया हैं। हमारी सरकार आते ही इसे दुरुस्त किया जाएगा।

आज झारखण्ड के हर क्षेत्र में रघुबर सरकार ने हर जगह बिचौलियों को घुसा रखा हैं, जिसकी वजह से ज़मीनों के दाखिल ख़ारिज में भी व्यापक लूट मची हुई हैं हमारी सरकार में इस बिचौलिया परंपरा का पूरी तरह से खात्मा होगा

हमारी सरकार में होल्डिंग टैक्स के अंतर्गत मनमानी तरीके से वसूले जाने वाले टैक्स पर विराम लगेगा। साथ ही उस टैक्स का 30 प्रतिशत (मनमानी दर) जो न्यास (NGO) वसूली कर रही हैं, उनके इस मनमानी पर भी शिकंजा कसने का काम करेगी, ताकि जनता को रहत मिले!                                                                 

रघुवर सरकार का जीरो कट बिजली देना का वादा केवल एक जुमला बन कर रह गया है। सच्चाई यह है कि आज झारखण्ड के तमाम जिले बिजली और पानी की समस्या से परेशान हैंइसकी मुख्य वजह DVC पर निर्भरता एवं करोड़ों रुपया का बिल बकाया होना है। लेकिन सरकार की बानगी तो देखिये डैम झारखण्ड में बनेंगे, लेकिन पानी भेजा जाएगा बंगाल, बिजली का उत्पादन होगा झारखण्ड की धरती व उसके संसाधन पर बिलकुल मुफ्त, लेकिन इसे बेची जायेगा बांग्लादेश को। देश भर में सबसे अधिक खनिज-सम्पदा का भंडार झारखण्ड में हैं, जिसका लाभ लगभग पूरा देश उठाता है, लेकिन राज्य की जनता को इसके बदले क्या हासिल होता है? केवल शून्य इसलिए हमने यह प्रण लिया है, हमारी सरकार आते ही झारखंडी लोगों के लिए यह क़ानून पारित करेगी कि झारखण्ड से जितना खनिज दूसरे राज्य या कंपनियों को दिया जाएगा, उतनी ही मात्रा में बिजली व तमाम संसाधन उनसे झारखंड के विकास के लिए लिया जाएगा यह वादा करता हूँ कि अन्य विकसित राज्यों की  तरह हमारे राज्य में भी 20 घंटों से अधिक बिजली गाँवों से लेकर शहर तक मुहैया करायी जाएगी साथ ही गाँवों में 200 यूनिट तक बिजली खपत बिलकुल मुफ्त होगा

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts

Click to listen highlighted text!