झारखंड 2020: संकट के बीच झारखंड सरकार का अद्भुत राहत के क्षण – आक्रामकता

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
झारखंड 2020: संकट के बीच झारखंड सरकार का अद्भुत राहत के क्षण

झारखंड 2020: इस लेख में झारखंड सरकार और उसके विधायक सहित संकट के बीच सभी अद्भुत राहत के क्षण पर एक रिपोर्ट।

यह रिपोर्ट गिरिडीह के बारे में नीती आयोग की ट्वीट से शुरू होती है

अद्भुत राहत के क्षण : झारखंड मुक्ति मोर्चा के गिरिडीह विधायक सुदव्य कुमार सोनू ने जिंदादिली का उदाहरण दिया। इस संकट के समय, उन्होंने जिले के मरणासन्न सदर अस्पताल में एक आईसीयू इकाई स्थापित करके संभावना को पुनर्जीवित किया।इस विषय पर, NITI Aayog ने हार्दिक प्रशंसा और ट्वीट किया है।

झारखंड 2020: संकट के बीच झारखंड सरकार का अद्भुत राहत के क्षण
नीति आयोगद्वारा की गयी ट्वीट  

साथ ही, विधायक महोदय ऑनलाइन के माध्यम से 8 वीं से 12 वीं तक के छात्रों की बाधित पढ़ाई शुरू करने जा रहे हैं।। इसके लिए, अच्छे शिक्षकों की मदद से, उन्होंने शहर में केवल टीवी के माध्यम से शिक्षा की व्यवस्था की है।। यह भी उनकी अनूठी पहल में से एक है।  

टाइम टेबले की छवि 

झारखंड 2020: झारखण्ड सरकार और मुख्यमंत्री के अद्भुत राहत के क्षण 

हेमंत सरकार ने इतिहास रचा – लॉकडाउन के दौरान, 1124 मज़दूरों के पहले बैच को ट्रेन के माध्यम से रांची लाया गया। जिसका मेडिकल टेस्ट कराया जा रहा है। इस मामले में मुख्य बिंदु यह है कि पूरा खर्च झारखंड सरकार द्वारा वहन किया गया। कोटा से झारखंड के छात्रों को वापस लाने के लिए दो विशेष ट्रेनें भी चलाई गई हैं। इसके साथ, झारखंडी प्रवासियों की उम्मीदों की ट्रेन शुरू हो गई है, जो निश्चित रूप से उन्हें गंतव्य तक पहुंचाएगी।

स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों के खिलाफ हुए हिंसा पर कारवाही 

  • बंद के दौरान राज्य में कई जगहों से स्वास्थ्यकर्मियों के खिलाफ हिंसा की खबरें आईं। झारखंड सरकार ने तुरंत इस संदर्भ में कठोर कदम उठाए। साथ ही हमलावर की जांच शुरू की।
  • रांची में, मेडिकल वैन को विशेष रूप से नमूना संग्रह के लिए डिज़ाइन किया गया है ताकि मेडिकल स्टाफ को कोरोना संक्रमण का खतरा न हो।

झारखंड 2020 : एक लाख मनरेगा मजदूरों को झारखण्ड सरकार ने राहत दी 

नीति आयोगद्वारा की गयी ट्वीट
कार्य करते मंरेगा मजदूर

तालाबंदी से 1 लाख मनरेगा मज़दूरों के जीवन पर आजीविका का संकट आ गया। लेकिन झारखंड सरकार ने इन मज़दूरों को राज्य के विभिन्न जिलों में नियुक्त किया। मज़दूरों को हर दिन डीबीटी के माध्यम से भुगतान भी किया जा रहा है। जिसकी चमक मनरेगा मज़दूरों के चेहरे पर दिखाई दे रही है। 

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के निर्देशों के बाद विभागीय अधिकारी भी सचिवालय को रिपोर्ट कर रहे हैं।

मनरेगा श्रमिकों को प्रधानमंत्री आवास योजना, ग्रामीण वृक्षारोपण और नर्सरी, छोटे तालाब, डोभा, कुएं जैसे कामों से जोड़ा जा रहा है। इस दौरान सोशल डिस्टन्सिं के सभी पहलुओं का ध्यान रखा जा रहा है।

झारखंड 2020 : दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों के लिए ‘झारखंड कोरोना हेल्पिंग ऐप’, लॉन्च 

देश भर के राज्यों में फंसे झारखंडियों के लिए झारखंड कोरोना हेल्पिंग ऐप लॉन्च किया गया। एक दिन में 80,000 से अधिक लोगों ने ऐप डाउनलोड किया। ऐप के माध्यम से, प्रत्यक्ष सहायता को DBT के माध्यम से झारखंड के बाहर फंसे झारखंडियों के खाते में स्थानांतरित किया गया।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भारी ट्रैफिक के कारण झारखंड कोरोना सपोर्ट ऐप में आने वाली तकनीकी कठिनाइयों को प्राथमिकता देते हुए युद्धस्तर पर काबू पा लिया गया।

झारखंड कोरोना सपोर्ट ऐप डाउनलोड करने के लिए लिंक पर क्लिक करें: https://covid19help.jharkhand.gov.in/

झारखंड 2020: संकट के बीच झारखंड सरकार का अद्भुत राहत के क्षण
झारखण्ड सरकार द्वारा लांच किया गया ऐप

रैपिड टेस्टिंग की व्यवस्था 

झारखंड में कोरोना संक्रमण की जाँच के लिए रैपिड परीक्षण की व्यवस्था किया गया। झारखंड सरकार ने एक लाख रैपिड टेस्टिंग किट का आर्डर दिया। लेकिन दुख की बात है कि केंद्र सरकार से केवल 10 हजार परीक्षण किट दिए गए। फिर भी सरकार ने हिम्मत नहीं हारी और लगातार पत्राचार कर इसे हासिल करने की कोशिश की।

झारखंड 2020 : विशेष घटनाक्रम (अद्भुत राहत के क्षण)

  • मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मंत्रालय जाते समय अचानक वाहन को शहीद मैदान की ओर ले जाने का आदेश दिया। मैदान में पहुंचते ही उन्होंने मैदान में खाने वाले गरीब और असहाय लोगों की स्थिति की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने कहा- मुझे पता है कि आप सभी को लॉकडाउन (संकट)से परेशानी हो रही है। लेकिन आपकी सुरक्षा महत्वपूर्ण है। और मुख्यमंत्री ने गरीबों को परोसे जा रहे भोजन की गुणवत्ता की भी जांच की। सब सही पाए जाने के बाद सदस्यों द्वारा किये जा रहे पुनीत कार्य की सराहना की। 
  • राँची में, राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने संकट के बीच बाबासाहेब को श्रद्धांजलि अर्पित की।
झारखंड 2020: संकट के बीच झारखंड सरकार का अद्भुत राहत के क्षण
अपने घरों में कार्य करती झारखंडी महिलाएं

झारखंड सरकार ने महिलाओं को दी हिम्मत

नीति आयोगद्वारा की गयी ट्वीट
अपने घरों में कार्य करती झारखंडी महिलाएं
  • पूरे देश में तालाबंदी है, लेकिन झारखंड के गांवों की महिलाएं साहस और गर्व के साथ काम कर रही हैं। झारखंड की हेमंत सरकार के प्रयासों से, इन महिलाओं ने कोरोना से लड़ने के लिए मुखौटे और सैनिटाइज़र बनाना शुरू कर दिया है।
  • सखी मंडल से जुड़ी ये महिलाएं अब तक 90,000 मास्क और 54,000 लीटर सैनिटाइज़र बना चुकी हैं और पीडीएस की मदद से अपने क्षेत्र के लोगों तक पहुंच चुकी हैं। गिरिडीह और खूंटी समेत  कई जिलों की महिलाएं अब इस पहल से आत्मनिर्भर बन रही हैं।
  • तालाबंदी के कारण तमिलनाडु की एक कपड़ा फैक्ट्री में फंसी झारखंड की 200 बेटियों को सुरक्षा दी गई। लड़कियों ने शिकायत की थी कि उन्हें काम करने के लिए पीटा जा रहा था। साथ ही, उन्हें खाने-पीने में भी समस्या होती है। 
  • मामले का संज्ञान लेते हुए मुख्यमंत्री ने तमिलनाडु सरकार से बात की। इस पर त्वरित कार्रवाई करते हुए, तमिलनाडु सरकार ने सभी लड़कियों को सुरक्षा दी। साथ ही उनके रहने और खाने की भी उचित व्यवस्था की गई।
  • हेमंत सरकार के निर्देश पर, 32000 साहिया घरों में संक्रमित की तलाश कर रहे हैं, लगभग 17 हजार लोगों को  गया।

झारखंड 2020: चाईबासा में अनोखा आविष्कार

पश्चिमी सिंहभूम के डीडीसी आदित्य ने कोरोना के खिलाफ लड़ने के लिए एक ऐसा रोबोटिक उपकरण तैयार किया। जो संक्रमित मरीजों को दवा से भोजन तक पहुँचाएगा। इसे कोबोट नाम दिया गया है। उन्होंने इसे अपने हाउसिंग गैराज में तैयार किया है। उन्होंने इसकी डिज़ाइनिंग और प्रोग्रामिंग भी की है। यह कोरोना संक्रामक के इलाज के लिए देश में अपनी तरह का पहला उपकरण होगा।

किसानो के लिए राहत के क्षण

झारखंड सरकार ने घोषणा की कि तालाबंदी के बाद झारखंड के किसानों का कृषि ऋण माफ कर दिया जाएगा। जो झारखंड के किसानों के लिए बहुत अच्छी खबर है। कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि किसानों की कर्ज माफी के लिए दो हजार करोड़ का बजट तैयार किया गया है। यह लॉकडाउन समाप्त होने के बाद मुख्यालय पर शिविर स्थापित करके किया जाएगा। कृषि ऋण से संबंधित सभी सूची भी बैंकों से ली गई है।

झारखंड 2020 : कैबिनेट में प्रस्‍तावों पर मुहर

  • राज्य के सभी लोगों को दो महीने के लिए 1 रुपये प्रति ग्राम की दर से राशन देने का निर्णय लिया गया। इस योजना का लाभ उन लोगों को भी मिलेगा जिन्होंने राशन कार्ड के लिए आवेदन किया है, लेकिन उनका राशन कार्ड नहीं बनाया गया है।
  • राज्य में कम बारिश के कारण बोकारो, चतरा, पाकुड़, देवघर, गिरिडीह, गोड्डा और हजारीबाग जिलों के 55 ब्लॉकों को सूखा घोषित किया गया।

पीडीएस दुकानदारों को निलंबन 

संकट के वक़्त राशन वितरण में धांधली के आरोप में रांची के 12 पीडीएस दुकानदारों को निलंबित कर दिया गया। और स्पष्टीकरण की मगा की गयी। झारखंड सरकार ने कहा कि वह ऐसे पीडीएस दुकानदारों के खिलाफ लगातार कार्रवाई करेगी जो सरकार के नियमों के खिलाफ भ्रष्टाचार में लिप्त पाए जाएंगे।

ढुल्लू महतो की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

महिला के यौन शोषण के आरोपी भाजपा विधायक ढुल्लू महतो की अग्रिम जमानत याचिका हाईकोर्ट ने खारिज कर दी। बाघमारा के भाजपा विधायक ढुल्लू महतो पर महिला का यौन शोषण करने का आरोप है, जिसके लिए पुलिस लगातार ढुल्लू महतो को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी कर रही है।

झारखंड 2020 : लॉकडाउन के संकट में हुई अच्छी पहल  

झारखंड 2020: संकट के बीच झारखंड सरकार का अद्भुत राहत के क्षण
भोजन कर रहे झारखंडियों की छवि
  • तालाबंदी के दौरान, रांची शहर में खाद्यान्न की आपूर्ति के लिए प्रत्येक वार्ड में दो खुदरा दुकानदारों का चयन किया गया था।
  • मछली, मुर्गा, पशु-पक्षियों का चारा-दाना बेचने वालो को परेशान नहीं करने के आदेश दिए गए।
  • मुख्यमंत्री दीदी किचन योजना पूरे झारखंड में शुरू हुई, जिससे गरीब और जरूरतमंदों को एक दिन में दो बार भोजन मिले।
  • सोशल मीडिया में आपत्तिजनक पोस्ट करने के आरोप में आजसू के जिला मीडिया प्रभारी की गिरफ्तारी।
  • इस दौरान, झारखंडी किसानों से पिछली रघुवर सरकार का धोखा सामने आया। केंद्र सरकार ने कोरोना संकट के समय में भी झारखंड के 5 लाख किसानों को पीएम किसान योजना की किस्त नहीं दी, झारखंड के किसानों में निराशा। 
  • झारखंड सरकार ने भूख से लड़ने के लिए मिल्स ऑन द व्हील भी लॉन्च किया।
  • रांची में सीएम किचन और थानों में कम्युनिटी किचन। जहाँ अच्छा दृश्य है। सरकार द्वारा सोशल मीडिया पर पुलिस के प्रयास को भी सराहा गया है।
  • 875 दाल भात केंद्रों में खिचड़ी परोसी जा रही है। प्रत्येक केंद्र के 200 लोगों को लॉक डाउन तक मुफ्त भोजन दिया जाएगा।
  • सरकार तालाबंदी के दौरान गरीब परिवारों को आकस्मिक भोजन राहत पैकेट दे रही है।
  • जमाखोरी को रोकने के लिए, सिलेंडर बुकिंग का एक नया नियम लागू किया गया। अब 14.2 किलो के सिलेंडर की अगली बुकिंग 15 दिनों के बाद की जाएगी। वहीं, 7 दिन बाद पांच किलो के सिलेंडर की बुकिंग होगी।

झारखंड 2020 : मुख्यमंत्री की अपील पर शिक्षा जगत ने बढ़ाया मदद का हाथ  

  • झारखंड के 65 हजार पारा शिक्षकों ने मुख्यमंत्री राहत कोष में एक करोड़ रुपये देने की घोषणा की।
  • 50 हजार प्राथमिक शिक्षकों ने मुख्यमंत्री राहत कोष में एक दिन का वेतन देने की घोषणा की
  • सभी विश्वविद्यालयों के गैर-शिक्षण कर्मचारियों ने भी मुख्यमंत्री राहत कोष में एक दिन का वेतन देने की घोषणा की।
  • 3000 बीआरपी और सीआरपी ने मुख्यमंत्री राहत कोष में अपने एक दिन के मानदेय देने की घोषणा की।

नोट : झारखंड 2020 :झारखंड ख़बर भी झारखण्ड सरकार के लिए आप सभी से मुख्यमंत्री राहत कोष, खाता संख्या – 11049021058 और IFSC कोड – SBIN0000167 में दान करने की अपील करता है।

बहरहाल, संकट के बीच अद्भुत राहत के क्षण देख कर यह प्रतीत है- झारखंड में मुख्यमंत्री और सरकारी विभाग की सतर्कता के कारण कोरोना अपने पैरों को पसारने में विफल हो रहा है। झारखंड में, हेमंत सरकार के दृढ़ निश्चय और प्रशासनिक विभाग की सतर्कता के कारण कोरोना को हारना तय है। झारखंड 2020 में यह कहा जा सकता है कि एक मामूली संसाधन में, झारखंड पूरे देश में कोरोना से निपटने में एक उदाहरण के रूप में उभरा है।

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.