हॉर्सट्रेडिंग मामले में भाजपा पर आरोप कोई नया नहीं – रघुवर दास तक हैं आरोपी 

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
हॉर्सट्रेडिंग

झारखण्ड में हॉर्सट्रेडिंग का सम्बन्ध भाजपा से नया नहीं है. राज्यसभा चुनाव-2016, हॉर्सट्रेडिंग मामले में पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास, उनके प्रेस सलाहकार अजय कुमार और एडीजी अनुराग गुप्ता पर पहले ही तलवार लटकी हुई है. कोर्ट मामले में पीसी एक्ट लगाने का फैसला सुनाता है, तो जांच का रुख बदल सकता है. अभी यह मामला शांत हुआ भी नहीं था कि झारखण्ड की चुनी हुई हेमन्त सरकार को गिराने की साजिश का मामला फिर सामने आया है. और इस प्रकरण में भी भाजपा का नाम शामिल होना शायद राज्य को अचंभित नहीं कर सकता है.

अमित सिंह जो सीवान निवासी हैं, ने कोतवाली पुलिस के समक्ष किया एडमिट 

हॉर्सट्रेडिंग मामले में गिरफ्त में आये आरोपियों की बयानों को पुलिस गंभीरता से जांच कर रही है. बोकारो के अमित सिंह जो सीवान निवासी हैं, ने कोतवाली पुलिस के समक्ष एडमिट किया है. 21 जुलाई को वह कार से भाई दीपू के साथ रांची आया था. जय कुमार बेलखड़े ने उसे फोन से संपर्क कर रांची के मॉनसून रेस्टूरेंट में बुलाया था. वहां पहुंचने पर अमित सिंह ने देखा कि जय कुमार के साथ अभिषेक दुबे और एक अन्य आदमी है. मुलाकात के बाद वह उसी शाम सात बजे एक विधायक से मिलने हजारीबाग सर्किट हाउस पहुंचा. 

सर्किट हाउस में विधायक से बातचीत के क्रम में बताया कि हमारे सभी आठ विधायक तैयार हैं. आप लोग और चार विधायक को देख लो. इसी क्रम उसे पता चला कि जय कुमार भी उस सर्किट हाउस में आनेवाला है. उसके आने से पहले वह वहां से निकल गया. सरकार गिराने की साजिश के मामले में रांची पुलिस गंभीर है. जांच में आरोपों की पुष्टि होने से पुलिस विधायकों से पूछताछ कर सकती है. सोमवार को दो अलग-अलग टीम ने दिल्ली और मुंबई पहुंचकर जांच शुरू कर दी है. 

हॉर्सट्रेडिंग मामले में पुलिस टीम की जांच दिल्ली और मुंबई एयरपोर्ट से शुरू 

पहली टीम : 

  • 15 जुलाई को दिल्ली एयरपोर्ट से निकले आठ लोगों की पड़ताल कर रही है.
  • एयरपोर्ट पर पड़ताल के दौरान सीसीटीवी साक्ष्य भी पुलिस करेगी एकत्र. 
  • टीम होटल विवांता भी जायेगी और सभी की मौजूदगी की पड़ताल करेगी.

दूसरी टीम :

  • मुंबई में भाजपा नेता चंद्रशेखर राव बावनकुले, चरण सिंह, जय कुमार बेलखड़े, मोहित भारतीय, अनिल कुमार, आशुतोष ठक्कर की गतिविधियों की पड़ताल करेगी.
  • मुंबई एयरपोर्ट से उक्त लोगों के रांची और दिल्ली दौरे के संबंध में जानकारी एकत्र करेगी.

होटल के रेस्टूरेंट से फुटेज व तकनीकी साक्ष्य जुटा रही पुलिस 

हॉर्सट्रेडिंग मामले की जांच में पुलिस होटल ली-लैक पहुंची. पुलिस ने जय कुमार बेलखड़े, मोहित भारतीय, अनिल कुमार, अभिषेक दुबे और आशुतोष ठक्कर के साथ में खाना खाने का वीडियो फुटेज लिया है. होटल के रजिस्टर में भी महाराष्ट्र से आये चारों लोगों के नाम हैं. जिससे महाराष्ट्र से आये लोग व अभिषेक दुबे के होटल ली-लैक में होने की पुष्टि हुई है. 

पुलिस की टीम पड़ताल के लिए मॉनसून रेस्टूरेंट भी पहुंची. चुटुपालू टोल प्लाजा से भी तीनों विधायकों की गाड़ियों की पड़ताल की गयी है. यह देखा जा रहा है कि ये लोग टोल प्लाजा से कब गुजरे हैं. विधायकों और आरोपियों का मोबाइल लोकेशन की जांच भी पुलिस कर रही है. 

विधानसभा चुनाव के दौरान अमित सिंह की मुलाकात सीआरपीएफ जवान से हुई

आरोपी अमित सिंह ने अपने बयान में कहा है कि मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान उसकी मुलाकात एक सीआरपीएफ जवान से हुई थी. उसने ही उसे जय कुमार का फोन नंबर दिया था. 5 जुलाई 2021 को जय कुमार अमित को फोन कर विधायक के बारे में पूछा. इस पर उसने एक करीबी निवारण महतो के बारे में बताया. फिर निवारण ने गौरव कुमार उर्फ विनोद यादव से संपर्क किया.

गौरव ने 14 जुलाई को उसे ओरमांझी बुलाया. उस दिन अमित, उसका भाई दीपू व निवारण महतो कार से ओरमांझी पहुंचे. वहां एक विधायक से मूलाकात हुई जिसे वह पहचानता नहीं हैं. इसके बाद हजारीबाग गये. वहां गौरव कुमार उर्फ विनोद यादव और प्रवीण ने उसे एक विधायक से मिलवाया. विधायक ने जय कुमार से फोन पर बात की. फिर दिल्ली जाने के लिए पांच आदमी का नाम दिया. इंडिगो फ्लाइट का इनका टिकट बना. जिसका पीएनआर नंबर आइजीसीटी2वी है. और निवारण महतो, अमित सिंह और अभिषेक दुबे का पीएनआर नंबर ओएमजेडआरडब्लू वाला टिकट बना. सभी 15 अप्रैल को रांची से दिल्ली गये. ऐसे में पत्रवीर भाजपा नेता का प्रेस कांफ्रेंस हास्यास्पद हो सकता है

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.