Breaking News
Home / Tag Archives: #national

Tag Archives: #national

एनएमसी विधेयक में प्राइवेट मेडिकल कॉलेजों की बल्ले-बल्ले 

एनएमसी विधेयक

एनएमसी विधेयक जब क़ानून बन जायेगा तब – भारतीय चिकित्सा परिषद क़ानून 1956 रद्द हो जायेगा। उसकी जगह एक राष्ट्रीय मेडिकल आयोग (एनएमसी) गठित होगा जिसमें 25 सदस्य होंगे। इनमें से सिर्फ़ 5 का चुनाव होगा और बाक़ी 20 सरकार द्वारा मनोनित होंगे। प्राइवेट कॉलेजों की 50 प्रतिशत सीटों की …

Read More »

गौ-रक्षक की गुंडागर्दी वाली भूमिका अब लाइसेंस के साथ पुलिस को दे दी गयी है 

गौ-रक्षक की भूमिका में पुलिस

फासीवादियों ने गौरक्षा की आड़ में जो गुण्डागर्दी व क़त्लोगारत देशभर में मचा रखी है, वह अब जग जाहिर है। यह “गौ-रक्षक” गुण्डे मोदीजी की सत्ता में बेख़ौफ़ घूमते रहे और नित नयी घटनाओं को अंजाम भी देते रहे हैं। जब दुनियाभर में थू-थू होने लगी तो साहेब ने कह …

Read More »

यूएपीए क़ानून आज़ाद भारत का सबसे ख़तरनाक क़ानून

यूएपीए क़ानून

यूएपीए क़ानून को आज़ाद भारत का सबसे ख़तरनाक क़ानून माना जा रहा है। देश में काले क़ानूनों का लंबा इतिहास रहा है। इस फ़ेहरिस्त में 1950 का प्रिवेण्टिव डिटेंशन एक्ट, 1958 का ऑर्म्ड फ़ोर्सेज़ (स्पेशल पावर्स) एक्ट (आफ्स्पा), 1967 का अनलॉफ़ुल एक्टिविटीज़ (प्रिवेंशन) एक्ट (‘यूएपीए’), 1971 का मेण्टिनेंस ऑफ़ इण्टरनल सिक्योरिटीज़ …

Read More »

टीएनएन डॉट वर्ल्ड ने खुलाशा किया नोटबंदी सीधे पीएमओ से संचालित  

नोटबंदी

नोटबंदी सीधे पीएमओ से संचालित   टीएनएन डॉट वर्ल्ड वेबसाइट की “सुनामी ऑफ स्टिंग्स मोदी बीजेपी अनमास्क्ड” नाम से जारी स्टिंग के जरिये एक बार फिर यह साबित हुआ कि नोटबंदी देश का सबसे बड़ा घोटाला था। इस स्टिंग के माध्यम में बताया गया है कि कैसे नोटबंदी के वक़्त …

Read More »

मोदी जी 60 महीनों में 22 महीने 6 दिन तो यात्रा में ही गवां दिए

मोदी जी

देश में देखा जाये तो जनता की गरीबी और सत्ता की रईसी के चर्चे राम मनोहर लोहिया ने नेहरु दौर में उठाये थे। उस वक़्त बहस 3 आना बनाम 15 आना, मतलब देश की जनता जब 4 आने में जिंदगी बसर करने को मजबूर थी तब नेहरू जी 25000 अपने …

Read More »

अब मान लेना चाहिए, झारखंडी हितों की रक्षा कोई झारखंडी ही कर सकता है

पर्यावरण झारखंड

साल 2016 में विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रसारित रिपोर्ट के अनुसार प्रदूषण व ज़हरीली हवा के कारण झारखंड समेत देश भर में तक़रीबन एक लाख बच्चों की मौत हुई, और दुनिया में छह लाख। भली भांति समझा जा सकता है कि यह बच्चे ज़्यादातर ग़रीबों के थे। झारखंड में गिरिडीह …

Read More »