भाजपा विधायक ढुल्लू महतो पर यौन शोषण का आरोप

ढुल्लू महतो पर यौन शोषण का आरोप, पीडिता द्वारा आत्मदाह की कोशिश

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

भाजपा विधायक ढुल्लू महतो और उनके खासमखास अयोध्या ठाकुर पर उनकी ही पार्टी की जिला मंत्री कमला कुमारी ने यौन शोषण व धमकी देने का आरोप लगाया है। इनपर उचित कार्रवाई नहीं होने से नाराज नेत्री ने गुरुवार को अपराह्न तीन बजे थाना गेट के पास आत्मदाह करने का प्रयास किया। हालांकि पुलिसकर्मियों ने अपनी तत्परता से महिला नेत्री की जान बचा ली है।

गौरतलब हो कि भाजपा की जिला मंत्री कमला कुमारी ने 31 अक्टूबर 2018 को ऑनलाइन प्राथमिकी दर्ज कराया था, जिसमें अपने ऊपर हुए यौन शोषण का जिक्र करते हुए ढुल्लु महतो के खासमखास अयोध्या ठाकुर को आरोपित किया था।  परन्तु इस ऑनलाइन प्राथमिकी रजिस्टर्ड करने में स्थानीय पुलिस को आठ दिन से भी ज्यादा समय लग गये। फिर भी न तो आरोपी को पकड़ा जा सका और न ही कमला कुमारी को न्याय दिलाने में स्थानीय पुलिस ने कोई दिलचस्पी दिखाई। नतीजन भाजपा नेत्री को प्रशासन और अपनी ही पार्टी के दोगले रवैय्ये से तंग आकर आत्मदाह करने का रास्ता चुनना पड़ा। गुरुवार को थाना के समक्ष चले हाइ वोल्टेज ड्रामा के दौरान ढुल्लू महतो का बार-बार नाम लेकर उन पर भी शारीरिक शोषण का आरोप लगाया तथा जान से मारने की धमकी देने की बात कही।

कमाल है, केन्द्र में भी भाजपा और राज्य में भी भाजपा की सरकार, जहाँ पर घटना घटी वहां का सांसद और विधायक भी भाजपा का, आरोपित अयोध्या ठाकुर भी, साथ में आरोप में घिरे ढुल्लू महतो का खासमखास और तो और जो यौन शोषण की शिकार महिला है वह भी भाजपा की ही जिला मंत्री हैं। सोचने वाली बात है जब भाजपा की महिला नेता ही अपने ही घर में सुरक्षित नहीं हैं, तो ये भाजपा सरकार आम जनता को क्या सुरक्षा उपलब्ध करायेंगे।

बहरहाल सवाल यह है कि किसके इशारे पर भाजपा खेमा और प्रशासन यौन शौषण के आरोपियों को बचाने में लगी है? जबकि मुख्य आरोपी कतरास थाने के आस-पास ही चक्कर लगाता रहता है। सबसे महत्वपूर्ण बात राज्य के मुख्यमंत्री की क्या मजबूरी है, कि वह अपनी ही पार्टी की एक महिला नेत्री की बात नहीं सुन रहे। कहीं ऐसा तो नहीं कि ‘रघुबर मोदी’ अपने परम मित्र ‘ढुल्लू साहू’ को बचाने के चक्कर में अपने भाजपा  नेत्री की बात को हवा में उड़ा दे रहा हैं, या फिर मुख्यमंत्री को इस बात का इंतजार है कि पीड़िता कमला कुमारी उनके ‘बनियाचारे’ का कोपभाजन बन मुख्यमंत्री कार्यालय के सामने आत्मदाह करने के लिए रांची आएगी।

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

This Post Has One Comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts