Jharkhandkhabar में Jharkhand news, Ranchi, Sarkar, highcourt, district, students forest, women. -संबंधित विश्लेषणात्मक खबरें पढ़ी जा सकती है। (Therefore,) इसलिए, अपडेट रहने के लिए इस साईट को दौरा किया जा सकता है। 

आज गोदी मीडिया बुर्जुआ वर्ग के वर्चस्व का साधन है। साथ ही अपने आप में एक व्यवसाय बन चूका है। इसमें कोई संदेह नहीं कि यह एक उद्योग का रूप बन चूका है। जहाँ पूँजी के मदद से प्रबन्धकों के माध्यम से कर्मचारियों का दोहन किया जाता है।

 इसलिए, (Therefore,) हम अपने प्लेटफोर्म खबर के माध्यम से के रूप में इस कड़ी को तोड़ते हुए जनता के साथ फिर से संवाद बनाना चाहती है। और समाज को छीन होने से बचाना चाहती है।

Jharkhand news

झारखंड के आदिवासी-मूलवासी के घरों के नीचे खनिज का भंडार है। जिस पर देश-विदेश के पूँजीपतियों की नजर रहती है। इसकी सीमाएँ उत्तर में बिहार, उत्तर प्रदेश एवं छत्तीसगढ़, ओड़िशा व पश्चिम बंगाल से मिलती है।

साथ ही वनों (forest) के अनुपात में यह प्रदेश देश भर में अग्रणी है। और यहाँ के आदिवासियों की जीवन काफी हद तक वन (forest) पर निर्भर करता है। सरकार की नीतियाँ यहाँ की जनता को सीधा प्रभावित करती है। इसलिए, (Therefore,) jharkhand news समाचार जेसे माध्यमों की आवश्यकता है।

Ranchi (राजधानी राँची )

Ranchi -राँची को झरनों का शहर है। यह अपने मौसम के लिए विख्यात है। झारखंड आंदोलन का केंद्र भी राँची ही था। इसलिए, (Therefore,) समाचार के दृष्टि को से इसका अपना महत्त्व है।

Sarkar (राज्य सरकार) 

इस राज्य में सरकार (Sarkar) का कार्यकाल 19 वर्षों का रहा है। मौजूदा वक़्त में राज्य में 11 वें मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की गठबंधन सरकार (Sarkar) है।  In other words, दूसरे शब्दों में कहें तो वह ठीक से गठित भी नहीं हुई थी और कोरोना से जूझ रही है।

highcourt (उच्च नयायालय)

झारखंड उच्च न्यायालय (highcourt) भारत में नवीनतम उच्च न्यायालयों में से एक है। इसे (highcourt) वर्ष 2000 में बिहार पुनर्गठन अधिनियम, 2000 के अधीन के तहत स्थापित किया गया था। Therefore, यह राज्य न्याय के दृष्टिकोण से महत्त्व रखता।

district (राज्य के जिले)

धनबाद, बोकारो , गिरिडीह, जमशेदपुर आदि इसके अन्य औद्योगिक जिले (district) हैं। इसके संपूर्ण जिले (district)  छोटानागपुर के पठार पर अवस्थित है। Therefore, हमारी उपस्थिति लगभग सभी जिलों के students से forest और women की स्थितियों तक है

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.