24 घंटे में शुरू हुआ ऑक्सीजन का उत्पादन

त्रासदी काल में, राज्य को चिंता से उबारती मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की जनपक्षीय नीतियां व फैसले

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

त्रासदी काल में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन एक बार सेनापति के रूप में कोरोना से दो चार करने के लिए पहली कतार में जनता के ढाल बन खड़े हो गए हैं. उनकी जनपक्षीय नीतियां व फैसले जनता को चिंतामुक्त कर रही है. लोग अपने सेनापति पर भरोसा दिखाते हुए पूरी ताकत से महामारी को मात देने को मैदान में कूद पड़े हैं.

रांची : मौजूदा दौर में, देश केन्द्रीय सत्ता की नपुंसकता के मद्देनजर, कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है. दूसरी लहर की अति संक्रामक और घातकता का आलम यह है ऑक्सीजन के अभाव में देश हाफ रहा है. और झारखंड भी इससे अछूता नहीं है, लेकिन राहत भरी खबर यह है कि राज्य की सत्ता संवेदनशील मुख्यमंत्री के हाथों में है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की विभागीय अपर मुख्य सचिव, प्रधान सचिव और सचिव के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक हुई है. बैठक में कई महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा हुई.

मोटे तौर पर बैठक में दो बड़ी चिंताएं नजर आयी। पहला कोरोना संक्रमितों को राहत किस प्रकार पहुंचाई जाए. और दूसरा महामारी में भी सुरक्षित तौर पर कैसे कल्याणकारी योजनाओं को गति दी जाए. बैठक में कोविड को लेकर मुख्यमंत्री सेल की शुरुआत करने की बात हुई. और ग्रामीण क्षेत्रों में संक्रमितों की प्रोफाइल तैयार पर जोर दिया गया. जिससे ग्रामीण क्षेत्रों में भी संक्रमण रोकने में सहायता मिले. पंचायतों में जल्दी ही क्वारंटाइन सेंटर को फिर से शुरू करने पर जोर दिया गया.

बैठक के निम्न बिंदु : 

  • बैठक में जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ लाभुकों तक कैसे पहुंचे.
  • मनरेगा में नई योजनाओं की शुरुआत.
  • पेंशन की राशि लाभुकों तक पहुंचाए जायेंगे.
  • बच्चों के पोषक आहार व ऑनलाइन शिक्षा जारी पर भी मंथन.

बहरहाल, ज्ञात हो कि संकट के कठिन काल में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कमान अपने हाथों में ले ली है. और जनपक्षीय नीतियों के मातहत जनहित में संवेदनशील फैसले ले रहे हैं. ऐसे फैसले, जिससे संकट काल में राज्य तत्काल उबरते हुए कोरना को मात दिया जा सके. और साथ ही राज्य की विकास का पहिया भी घूमता रहे। कहते हैं नियत अच्छी हो परिणाम भी अच्छे मिलते हैं. पिछली त्रासदी में झारखंड ने इस सच महसूस किया था. इस बार ऐसा होते देखा जाने लगा है. जल्द ही झारखंड इस त्रासदी से उबरते हुए अपने विकास की ओर अग्रसर होगा.

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

This Post Has One Comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.