हेमन्त सत्ता में पुलिस डोमेन के उत्कृष्ट क्रियान्वयन के लिए झारखण्ड पुलिस को देश में तीसरा स्थान

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
पुलिस डोमेन के उत्कृष्ट क्रियान्वयन के लिए झारखण्ड पुलिस को देश में तीसरा स्थान

केंद्रीय गृह मंत्रालय और नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के द्वारा आयोजित ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस में झारखंड पुलिस को आईसीजेएस पोर्टल के तहत पुलिस डोमेन के उत्कृष्ट क्रियान्यवन एवं उपयोग के लिए तेलंगाना के साथ संयुक्त रूप से देशभर में तृतीय स्थान…

झारखण्ड चन्द सालों पहले वही वही राज्य था जहाँ भाजपा शासन में, भाजपा विधायक को अपनी ही सरकार के मुखिया के शासन-प्रणाली से आहत हो किताब लिखनी पड़ती है. और विधायक सरयू राय की उस किताब, ‘लम्हों की खता’ ने राज्य में क़ानून व्यवस्था के मद्देनजर हलचल मचायी. यह किताब उस भाजपा शासन की झारखंड में योजनाओं की भ्रूण हत्या के उस पन्ने को भी खोली, जिसकी त्रासदी से रराज्य की त्रस्त थी. ज्ञात हो, यह वही दौर भी था जब मुख्यमंत्री के आवास के बाहर ही किसी की हत्या कर दी जात है और उसे न्याय नहीं मिलता. एक लाचार गरीब बेटी के पिता को न्याय देने की जगह दुत्कार कर भरी सभा से बेईज्जत कर खुद राजर के मुखिया निकाल देते थे.

लेकिन, मौजूदा हेमन्त सोरेन की सत्ता में क़ानून व्यवस्था न केवल पटरी पर लौट रही है, बल्कि वह संक्रमण काल में जनता को मदद करने लिए खुले दिल से आगे भी बढ़ी. गरीब जनता की भूख मिटाई. वीडियो में युवती को थप्पड़ मारने व दुर्व्यवहार करने वाले थाना प्रभारी हरीश कुमार पाठक को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड किया गया. और एसडीपीओ को संबंधित मामले की जांच की ज़िम्मेदारी दी गयी. झारखंड में अरसे बाद वह दिन दिखा है जिसे क़ानून का राज कहा जा सकता है. जहाँ लम्हों की खता झारखण्ड के बुरे दिनों की ऐतिहासिक गवाह है वहीं, एक दरोगे के दबंगई के खिलाफ कार्रवाई, झारखंड के अच्छे दिनों की शुरुआत की ऐतिहासिक गवाह हो सकता है.

झारखंड पुलिस को पुलिस डोमेन के उत्कृष्ट क्रियान्वयन में तीसरा स्थान

ऐसे में झारखंड पुलिस को पुलिस डोमेन के उत्कृष्ट क्रियान्वयन में तीसरा स्थान मिले तो मौजूदा परिस्थितियों में हेमन्त सरकार के प्रयासों सराहनीय माना जा सकता है. ज्ञात हो, केंद्रीय गृह मंत्रालय और नेशनल क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) के द्वारा आयोजित ऑनलाइन कॉन्फ्रेंस का आयोजन में देशभर के राज्यों के सीसीटीएनएस और आईसीजेएस के नोडल पदाधिकारियों व वरीय पुलिस पदाधिकारियों की उपस्थिति में यह पुरस्कार मिले तो झारखण्ड राज्य के लिए गौरव की बात हो सकती है.

कॉन्फ्रेंस में झारखंड पुलिस को आईसीजेएस पोर्टल के तहत पुलिस डोमेन के उत्कृष्ट क्रियान्यवन एवं उपयोग के लिए तेलंगाना के साथ संयुक्त रूप से देशभर में तृतीय स्थान पर रहने के लिए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय कुमार द्वारा पुरस्कृत किया गया. प्रथम स्थान महाराष्ट्र व द्वितीय स्थान मध्यप्रदेश को प्राप्त हुआ. व्यक्तिगत पुरस्कारों के श्रेणी में धनबाद जिला बल के एसआई अजय कुमार यादव, गढ़वा जिलाबल के आरक्षी नीरज कुमार पांडेय और रेल जमशेदपुर जिला बल के सुशील कुमार महतो को गृह राज्य मंत्री के द्वारा मोमेंटो एवं प्रमाणपत्र देकर सम्मानित किया जाना, निश्चित रूप से हेमन्त सरकार को बधाई का पात्र बनाता है.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.