पत्रकारों से हमेशा इंटरैक्ट होने के साथ उनकी परेशानियों की निपटारे में भी व्यक्तिगत रूचि ले रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
सीएम झारखंड

हर दिन प्रोजेक्ट भवन से वापस घर लौटने के दौरान न केवल पत्रकारों से हमेशा मिलते रहे रहे हैं ,उनके सवालों का जवाब भी देते रहे हैं हेमंत

अभी तक कई पत्रकारों को मुख्यमंत्री ने पहुंचा चुके हैं आर्थिक मदद

रांची। लोकतंत्र के चौथे स्तंभ ‘मीडिया’ की सकारात्मक भूमिका के मद्देनजर सच्चाई को जनता के सामने लाने में पत्रकारों की भूमिका हमेशा सराहनीय रही है। यह भी सच है कि पत्रकारिता जगत से जुड़े लोग कई तरह की परेशानियों से जूझते रहे हैं। राज्य के मुखिया हेमंत सोरेन तक भी यदा-कदा इनकी परेशानियां पहुँचती रहती है। और व्यक्तिगत परेशानियों से जूझ रहे वैसे पत्रकारों को मुख्यमंत्री हमेशा हरसंभव मदद पहुंचाने की व्यक्तिगत रूचि लिया है। साथ ही यही कारण है कि श्री सोरेन प्रयासरत हमेशा पत्रकारों के साथ इंटरैक्ट होने की रहती है। 

हेमंत सरकार के पिछले साढ़े 10 माह के शासनकाल को देखे, तो मुख्यमंत्री (कोरोना जांच कराने के दौरान को छोड़कर) हमेशा ही पत्रकारों से मिलते रहे हैं। प्रोजेक्ट भवन के हर दिन के दौरे में हेमंत कमोवेश शाम को पत्रकारों से मिले ही हैं। पिछले दिनों हेमंत ने मीडिया संघ से जुड़े कई लोगों से मुलाकात की। गंभीर बीमारियों से जूझ रहे पत्रकारों को आर्थिक मदद पहुंचाने के साथ वे आकस्मिक निधन हुए पत्रकारों को श्रद्धांजलि दे राज्य के इतिहास में एक अच्छे मुखिया की छवि पेश की है। 

दो संघों से मिल सुनी समस्याएं, निपटारे का आश्वासन

बीते अक्टूबर माह में, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने दो मीडिया संघ “झारखंड जर्नलिस्ट एसोसिएशन”  और “रांची प्रेस क्लब” के प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात की। दोनों ही प्रतिनिधिमंडलों ने दिवंगत पत्रकारों के परिजनों को मुआवज़ा देने,  गंभीर गंभीर रूप से बीमार पत्रकारों को आर्थिक सहायता देने और पत्रकार पेंशन योजना में सुधार करने जैसे कई मुद्दों से सम्बंधित मांगपत्रक मुख्यमंत्री को सौपे। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने मीडिया संघ को आश्वासन दिया है कि जरूरतमंद सभी पत्रकारों को पेंशन योजना का लाभ मिले, इसके लिए त्रुटियों को सुधारा जाएगा। पत्रकार सुरक्षा कानून लागू करने के मसले पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इसके कानूनी पहलुओं पर विशेषज्ञों से राय मशविरा करने के बाद जल्द ही निर्णय ले लिया जाएगा। इस दौरान सीएम ने गंभीर रूप से बीमार 10 पत्रकारों को सरकार की ओर से आर्थिक सहायता देने की बात कही। 

5 वरिष्ठ पत्रकारों तक सीएम के प्रयासों से पहुंची है 50,000 रुपये की मदद, अन्य 2 को जल्द पत्रकारों को जल्द मदद पहुंचाने की तैयारी

प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन देने के बाद 23 अक्टूबर को ही मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन द्वारा गंभीर रूप से बीमार 3 वरिष्ठ पत्रकारों तक आर्थिक पहुंची। इन्हें इलाज के लिए 50-50 हजार रुपये का चेक प्रदान किया गया है। मदद प्राप्त करने वाले पत्रकारों की सूची में वरिष्ठ पत्रकार विनोद कुमार शरण (किडनी रोग से ग्रसित हैं), वरिष्ठ फोटो जर्नलिस्ट श्रीनिवास (लंबे समय से लकवाग्रस्त हैं), वरिष्ठ पत्रकार इफ्तेखार हुसैन (जो कैंसर रोग से ग्रसित हैं) शामिल हैं। इससे पहले 22 अक्टूबर को देवेंद्र शर्मा और विभास चंद्र की पत्नी को उनके रांची स्थित आवास पर 50-50 हजार रुपये की मदद मुख्यमंत्री पहुंचाई गयी है। इसके अलावा दो अन्य पत्रकारों में दिवंगत आनंद पोद्दार ठक और मो शारिक का बैंक डिटेल मुख्यमंत्री कार्यालय में जमा हुए हैं। जानकारी के अनुसार जल्द ही उन्हें भी मदद मिले, इस पर काम चल रहा है।

पत्रकारों के निधन को सीएम ने बताया अपूरणीय क्षति

पत्रकारों को आर्थिक मदद पहुंचाने के अलावा मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन अपनी छवि के अनुरूप कई पत्रकारों को उनके निधन पर श्रद्धांजलि भी दी है। वे वैसे पत्रकार हैं, जिनकी मौत आकस्मिक समय में हुई है। इसमें वरिष्ठ पत्रकार धर्मराज राय, पीटीआई के ब्यूरो चीफ पीवी रामानुजम, धनबाद निवासी दैनिक जागरण के वरिष्ठ पत्रकार संजीव सिन्हा व दैनिक समाचार पत्र “खबर मन्त्र” के प्रधान संपादक अभय सिंह शामिल हैं। इन सभी के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए सीएम ने कहा कि इन सभी का जाना पत्रकारिता जगत के लिए अपूरणीय क्षति है।

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.