Breaking News

Recent Posts

सोहराय बंधनमुक्त व स्वाधीनता के परिचायक 

सोहराय

पशु- प्रकृति समेत तमाम जीवों को बंधनमुक्त कर स्वाधीन रूप में विचरण करने की परंपरा अर्थात प्रेम और परोपकार का पर्याय है सोहराय पर्व। सोहराय शब्द की उत्पत्ति सोहारओ या सोहार से बना है जिसका शाब्दिक अर्थ आदर सम्मान के साथ संवर्धन कराना है। यह पर्व संथाल संस्कृति का सर्वाधिक …

Read More »

शेख भिखारी व उमराँव सिंह जैसे गुमनाम शहीदों की कुर्बानी जाया नहीं जाएगी : शिबू

शेख भिखरी व टिकैत उमराँव सिंह

पूर्व मुख्यमंत्री व झारखंड आन्दोलन के सेनापति दिशोम गुरु शिबू सोरेन जब शहीद शेख भिखारी व टिकैत उमराँव सिंह का 163वां शहादत दिवस पर सम्मान देते हुए कहते हैं कि झारखंड के इन शहीदों की कुर्बानी बेकार नहीं जायेगी। तो झारखंड के वर्त्तमान सरकार से उम्मीद जगता है कि 1857 …

Read More »

फास्ट ट्रैक कोर्ट की स्थापना एक निर्णायक कदम

फास्ट ट्रेक

पिछले पाँच वर्षों के शासनकाल ने झारखंडी समाज के स्त्रियों और गरीब बेटियों की स्थिति को उघाड़ कर पेश किया है। फ़ासीवादी नेताओं व पुलिस-प्रशासन की सरपरस्ती के नीचे पलने वाले अपराधी बेखौफ़ होकर इन्हें निशाना बनाते रहे हैं। सरकार न्याय देगी यह उम्मीद ही बेमानी हो चुकी थी। राज्य …

Read More »