नक्सल क्षेत्रों के युवा को “सहाय” योजना से जोड़े, अंतरराष्ट्रीय स्तर तक दिखेगी चमक -मुख्यमंत्री

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
नक्सल क्षेत्रों के युवा को "सहाय" योजना से जोड़े

नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में युवाओं का खेल के प्रति रुझान देखते हुए हेमन्त सरकार “सहाय” योजना ले कर आ रही है. ताकि इन क्षेत्रों को मुख्यधारा में जोड़ते हुए विकसित किया जा सके.

  • सहाय योजना से नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं को जोड़े, दिखाएंगे अपना हुनर -मुख्यमंत्री का निर्देश
  • खेल प्रतिभाओं की राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर दिखेगी चमक
  • जमीनी स्तर पर खेल प्रतिभाओं को तराशने की  सरकार की योजना 

रांची : झारखंड देश के नक्सल प्रभावित राज्यों में शामिल है. सालों से नक्सली संगठन राज्य की कानून व्यवस्था को चुनौती दे रहा था. लेकिन वर्तमान हेमन्त सरकार नक्सल को सिर्फ विधि व्यवस्था की समस्या न मानकर, सामाजिक, आर्थिक समस्या के रूप में भी देख रही है. और इसी के अनुरूप नक्सल समस्या पर अंकुश लगाने के प्रयास भी लगातार करती दिखी हैं.  

सरकार ने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में विकास की गतिविधियों को तेज किया. नक्सलियों को मुख्यधारा में लौटने को प्रेरित करने के लिए अवसर प्रदान किया है. बावजूद इसके चुनौती देने वाले नक्सलियों के खिलाफ लगातार अभियान चलाई. मसलन, झारखंड में नक्सल कमजोर होता दिखा. नक्सलवादी विचारधारा से युवाओं का मोह भंग होता दिखा है. 

सरकार ने नक्सली क्षेत्रों पक्की सड़कों का जाल बिछाना शुरू किया. गांवों में विद्युतीकरण, मनरेगा तथा कृषि क्षेत्र में नयी योजनाओं को लाकर ग्रामीण क्षेत्रों का परिदृश्य बदलने की कोशिश की है. नतीजतन, माहौल बदला और इन क्षेत्रों में युवाओं की रूचि बंदूक के बजाय खेल में दिखा.

नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में युवाओं की खेल में रुझान देखते हुए हेमन्त सरकार ने “सहाय” योजना उतारा 

हेमन्त सरकार  नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में युवाओं की खेलों में रुझान देखते हुए “सहाय” योजना ले कर आ रही है. ताकि इन क्षेत्रों को मुख्यधारा में जोड़ते हुए विकसित किया जा सके. नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं में, खेल को बढ़ावा देने व व खेल प्रतिभा को निखारने के लिए मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने युवाओं को “सहाय’’ योजना से जोड़ने का निर्देश दिया है. उनका मानना है कि अवसर मिलने पर ये युवा अपना हुनर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय फलक पर बिखेरेंगे.

निर्देश के बाद खेल विभाग नक्सल प्रभावित क्षेत्र के युवाओं के लिए विशेष खेल योजना ‘’सहाय’’ योजना पर कार्य कर रहा है. इसमें 19 वर्ष से कम उम्र के युवाओं को जोड़ा जायेगा. योजना के तहत पंचायत स्तर के बच्चों से लेकर उन्हें प्रखंड व जिला स्तर तक के खेलों के लिए तैयार किया जायेगा. जिससे वह अपनी प्रतिभा के अनुसार राष्ट्रीय- अंतरराष्ट्रीय फलक पर अपना जलवा बिखेर सकेंगे. योजना का संचालन खेल और पुलिस विभाग के समन्वय से किया जायेगा. योजना का एक उद्देश्य यह भी है कि खेल के माध्यम से जनता व पुलिस के बीच की दूरी को कम करना. 

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.