नई खेल नीति

नई खेल नीति : खेल और खिलाड़ी अब नहीं हारेंगे, राज्य व देश हारेगा

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन झारखंड में खेल और खिलाड़ियों के लिए नए विकल्प पेश करने दिशा में कदम बढ़ा दिया हैं। खेल और खिलाड़ियों की दुर्दशा पर एक नई खेल नीति बनाने का आदेश दिया गया है। इसके लिए उपलब्धि और क्षमता के अनुसार राज्य के सभी खिलाड़ियों की मैपिंग करने के आदेश दिए गए हैं। 

मुख्यमंत्री ने कहा है कि इस नीति के तहत, राज्य राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय खेल स्तर की प्रतियोगिताओं के लिए खिलाड़ियों को तैयार करने पर जोर दिया जाएगा। और वर्तमान स्पोर्ट्स कोटा की समीक्षा करके, सरकारी नौकरियों में भर्ती प्रक्रिया शुरू की जा सकती है।

नई खेल नीति : जन जातीय खिलाड़ी मुख्यधारा से जुड़ेंगे

नई खेल नीति से जन जातीय खिलाड़ियों को मुख्यधारा से जोड़ने में मदद मिलेगी। साथ ही, भविष्य के खिलाड़ी तैयार किए जा सकेंगे। सरकार द्वारा प्रदान किए गए प्रोत्साहन का उपयोग भी सही जगह पर होगा। जिससे खिलाड़ी खेल के बाद भी पूरे अधिकार और सम्मान के साथ अपना जीवन जी सकेंगे। और खिलाड़ी राज्य और देश का नाम रोशन करने के लिए पदक जीतने में पूरी क्षमता का उपयोग करेंगे।

महिला फुटबॉल खिलाड़ियों को रांची में ही प्रशिक्षण मिलेगा

नई खेल नीति

सरकार के इस कदम से महिला फुटबॉल खिलाड़ियों को रांची में ही प्रशिक्षण दिया जा सकेगा। राज्य के महिला फुटबॉल खिलाड़ियों के लिए रांची में ही विशेष प्रशिक्षण की व्यवस्था करने का भी आदेश दिए गए हैं। इस बाबत अब तक 12 खिलाड़ियों को सूचीबद्ध किया गया है। सरकार उनसे संपर्क कर जल्द हीनई घोषणा कर सकती है।

खुद राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा है कि हमारे झारखंड के खिलाड़ियों में अंतहीन क्षमता व संभावनाएं है। उन्हें सटीक प्रशिक्षण, मार्गदर्शन, संतुलित आहार और परतिस्पर्धीय माहौल मुहैया किया जाए। तो निस्संदेह, वह न केवल राज्य बल्कि दुनिया में देश का डंका बजायेंगे। इसलिए, राज्य की नई खेल नीति को ओलंपिक 2021 और 2024 को ध्यान में रखते हुए तैयार किया जा रहा है।

मसलन, देश में पहली बार, झारखंड में खेलों के प्रति एक समझ विकसित की जा रही है – जहां खिलाड़ियों और खेलों का सीधा संबंध राज्य और देश के सम्मान से होगा। जहां खेल और खिलाड़ी अब नहीं हारेंगे, राज्य और देश हारेगा। क्योंकि देश में पहली बार, झारखंड की नई खेल नीति खिलाड़ियों को राज्य के सम्पदा के रूप में घोषित करेगा। 

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts