M V RAO

M V RAO को डीजीपी का प्रभार सौपा गया

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

क्या M V RAO झारखण्ड पुलिस व्यवस्था को नयी दिशा दे पाएंगे

सवाल यह नहीं है कि रघुवर दास के शासन में पुलिस व्यवस्था लचर रही, या कहें कानून के तहत बकोरिया कांड जैसी घटनाएँ हुई। सवाल तो यह है कि कैसे डीके पाण्डेय जैसे डीजीपी के नाम फ़र्ज़ी ज़मीन खरीद फरोख्त में सामने आया। असल में अपराधियों पर बरते जाने वाली कार्यशैली में वह राजनीति दिखी जिसमें सत्ता की खुमारी ने दबंगई को हमेशा बचाया। जहाँ पहली बार मानसिक तौर सत्ता के पीछे खड़ा हो पुलिस विभाग ने अपनी कर्त्तव्यों की समझ ख़त्म की। यानी अपराध पर नकेल कसने या बाहुबलियों को सलाख़ों के पीछे भेजा गया, उसमे न केवल सत्ता समीकरण छाप दिखी, पूरी व्यवस्था को मनमानी करने का संस्कार भी सिखाया। 

M V RAO को प्रभार

इसी व्यवस्था पर लगाम लगाने के दृष्टिकोण से झारखंड की हेमंत सरकार ने डीजीपी के.एन.चौबे का ट्रान्सफर करते हुए M V RAO को प्रभार दिया गया है। केएन चौबे झारखंड कैडर के 1986 बैच के आइपीएस हैं, जबकि एमवी राव 1987 बैच के अधिकारी हैं। इस संबंध में गृह विभाग की ओर से अधिसूचना जारी की जा चुकी है। यूपीएससी से संपुष्टि के बाद राव पूर्ण डीजीपी बन सकेंगे।

2017 में सीआइडी के एडीजी थे

एम.वी.राव लंबे समय तक राज्य से बाहर रहे हैं। केंद्रीय प्रतिनियुक्ति से लौटने के बाद उन्हें 13 नवंबर 2017 को सीआइडी का एडीजी बनाया गया था। इस पद पर वे ज्यादा दिनों तक टिक नहीं पाए। एक महीने के भीतर ही यानी 13 दिसंबर 2017 को सरकार ने उनका स्थानांतरण विशेष कार्य पदाधिकारी पुलिस आधुनिकीकरण कैंप नई दिल्ली के पद पर कर दिया था। अभी एक महीने पहले ही सरकार ने उन्हें गृह रक्षा वाहिनी सह अग्निशमन के डीजी के पद पर पदस्थापित किया था।

मसलन, राष्ट्रीय प्रतीक चार मुंह वाले शेर की तरह निकलने वाले M V RAO क्या झारखण्ड की पुलिस व्यवस्था को नया दिशा दे सकते हैं। जहां बलात्कार होता है। हत्या होती है। एफ़आईआर दर्ज नहीं होती। जहाँ संविधान तक अपनी  महत्ता खोने को है वहां क़ानून का राज स्थापित करने में कितने सफल हो सकते हैं यह तो वक़्त ही बताएगा।

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts