जोहार परियोजना से महिलायें बन रही है आत्मनिर्भर, फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी की अहम भूमिका

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
जोहार परियोजना

गुमला जिले की महिलाएं खेती में कर रही कमाल. जोहार परियोजना से जुड़कर उनकी किसानी हो रही समृद्ध. आमदनी बढ़ने से बन रही है वह आत्मनिर्भर व सशक्त

रांची : गांव की महिलाओं को जोहार परियोजना से जोड़कर आत्मनिर्भर बनाने की झारखंड सरकार की पहल का परिणाम सकारात्मक दिखने लगा है. इस काम में फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी की भी अहम भूमिका रही है. महिलाओं द्वारा उपजा को कंपनी उचित मूल्य पर खरीद रही है. जोहार परियोजना से जुडी महिलाओं को अब अपनी फसल बेचने के लिए भटकना नहीं पड़ता है. महिलाओं के पास स्वयं ही कंपनी के प्रतिनिधि आते हैं और उचित मूल्य पर उपज को खरीद ले जाते हैं.

पालकोट प्रखंड की सैकड़ों महिलाओं की बदली है जिंदगी

गुमला जिला के पालकोट प्रखंड में सैकड़ों महिलाएं जोहार परियोजना से जुड़ कर अपनी किसानी को समृद्ध बनायी है. महिलाएं उत्पादक समूह के माध्यम से निरंतर अपनी आमदनी बढ़ा रही है, आत्मनिर्भर व सशक्त बन रही हैं. वर्षों से जिन इलाकों के खेत पानी के अभाव में परती पड़े थे. उन खेतों में अब फसलें लहलहाती है. विदित हो, प्रखंड में 42 नर्सरी तैयार हो चुके हैं. इस नर्सरी में टमाटर, मिर्च, फूलगोभी आदि सब्जियां उपजाई जा रही है. बताते चलें कि पालकोट प्रखंड के साथ बसिया प्रखंड में भी फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी बनाई गई है.

इस कंपनी के माध्यम से किसानों के उपज (सब्जियां) को उचित मूल्य में खरीदा जाता है. जोहार परियोजना के बीपीओ अजित कुमार बताते हैं कि जोहार परियोजना से जुड़कर महिलाएं समृद्ध किसान बन रही हैं. खेती के लिए जोहार की तरफ से प्रत्येक उत्पादक समूह को 75 पीस क्रेट, एक वजन मशीन, सिंचाई सुविधा के लिए सोलरबेस्ड माईक्रो ईरिगेशन सिस्टम लगाया गया है. इसके साथ ही एक एचपी का सोलर पंप 06 गाँवों में वितरण किया गया है. ऐसे सोलर पंप 59 गाँवों में वितरण की योजना बन रही है. 

जोहार परियोजना से किसानों को बिचौलिए से मिल है मुक्ति

ज्ञात हो, जोहार परियोजना से राज्य के किसानों को काफी फायदा पंहुच रहा है. इसके तहत बिचौलिया प्रथा को समाप्त कर किसानों को सीधा बाजार उपलब्ध कराया जा रहा है. इस योजना से जुड़े किसानों को खेती के नये तरीकों की तकनीकी प्रशिक्षण दिया जा रहा है. जिससे किसानों की उपज में इजाफा हुआ है. साथ ही पशुपालन, मत्स्य पालन के बारे में भी जानकारी दी जा रही है. राज्य के कई जिलों में बड़े पैमाने पर योजना से किसानों को जोड़ा जा रहा है.

क्या है फॉर्मर प्रॉड्यूसर कंपनी

फॉर्मर प्रॉड्यूसर कंपनी किसानों की सहकारी संस्था होती है. यह संस्था किसानों की उपज को खरीदकर उसे बाजार में बेचती है. इसके अलावा फसल को कोल्ड स्टोरेज में संग्रहित करने और किसानों को खेती से संबंधित मामलों में मदद पहुंचाती है.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.