झारखण्ड : हेमन्त सरकार पर बढ़ रहा है महिलाओं का विश्वास 

झारखण्ड : फेमिना मिस इंडिया में प्रतिभागी रिया तिर्की, मिस यूनाइटेड नेशंस अर्थ 2022 खिताब की विजयी प्रतिभागी एंजेल मेरीना तिर्की जैसी बेटी का विश्वास के साथ सीएम से मुलाकात दर्शाता है कि महिलाओं का विश्वास बढ़ रहा है हेमन्त सरकार पर. 

रांची : महिलाओं की बराबर हिस्सेदारी झारखण्ड क्षेत्र की महान परंपरा रही है. इस क्षेत्र की महिलायें हर संघर्ष मे पुरुषाओं की तुलना मे बराबर की भागीदार रही है. स्वतंत्रता आंदोलन, अलग झारखण्ड आंदोलन तक की लड़ाई मे इनकी हिस्सेदारी बराबर की रही है. लेकिन, झारखण्ड गठन के बाद सरकारों  की नीतियों के अक्स मे महिलायें पीछे छुटती चली गई. और राज्य मे महिला सम्मान व सशक्तिकरण एक गंभीर मुद्दा बन कर उभरा. स्थिति यह हो चली कि राज्य कुपोषण का शिकार हो गया. 20 वर्ष बाद हेमन्त सोरेन के नेतृत्व वाली सरकार मे ऐसे गंभीर मुद्दे पर ठोस कार्य होने से महिलाओं का विश्वास मुख्यमंत्री पर बढ़ा है.

हेमन्त सरकार की नीतियों के अक्स मे राज्य की महिलाएं-बेटियाँ फिर से अपने सपनों को पंख दे पाने सक्षम हो रही है. महिलाओं को सामाजिक सुरक्षा, रोजगार, नियुक्ति से लेकर शिक्षा तक मे बराबर का हक दिया जा रहा है. मुख्यमंत्री ने कोरोना जैसे संकट काल मे राज्य की महिलाओं पर विश्वास किया. राज्य की वीरांगनाओं ने भी उन्हें निराश नहीं किया. उन्होंने राज्य मे एक भी आदमी को भूख से बिलखने नहीं दिया. मुख्यमंत्री भी हर मंच से इन वीरांगनाओं का आभार व्यक्त करते दिखते हैं और वह महिला भागीदारी की बात करते हैं.

झारखण्ड की बेटियों का विश्वास के साथ मुख्यमंत्री से मिलन इसी सच का हिस्सा

‘महिला-पुरुष एक ही हल के हिस्से, किसी एक के बिना लक्ष्य पाना मुश्किल’ … यहाँ भी मुख्यमंत्री के शब्द उनके कार्यों से मेल खाते हैं. हेमन्त सरकार की नीतियों मे राज्य में महिला सशक्तिकरण को लेकर बड़ी रेखाएं खिंची गयी है. महिलाओं को हडिया-दारू जैसे अभिशप्त जीवन से मुक्त कर सामुदायिक रसोईघर, सार्वजनिक भोजनालय, लॉण्ड्री, मरम्मत की दूकानें, शिशुशालाएँ, किण्डरगार्टेन, बालगृह, शिक्षा संस्थान जैसे कई प्रक्षेत्रों में आर्थिक मदद पहुँचा स्वावलंबी बनाया जा रहा है. यहाँ तक कि केंद्रीय गृह मंत्री की उपस्थिति मे हर घर तिरंगा कार्यक्रम की बैठक मे मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन द्वारा झारखण्ड की महिलाओं की भागीदारी का पक्ष प्रमुखता से रखा गया. 

संक्षेप में कहें तो, घरेलू और शिक्षा सम्बन्धी कार्यों को व्यक्तिगत गृहस्थी के दायरे से समाज के दायरे में स्थानान्तरित कर संवैधानिक शर्तों को पूरा हेतु हेमन्त सरकार में पर्याप्त संजीदगी दिख रही है. नतीजतन, झारखण्ड की महिला वर्ग का हेमन्त सरकार पर विश्वास बढ़ी है. फेमिना मिस इंडिया में झारखण्ड का प्रतिनिधित्व करने वाली रिया तिर्की, मिस यूनाइटेड नेशंस अर्थ 2022 खिताब की विजयी प्रतिभागी एंजेल मेरीना तिर्की, महिला हॉकी खिलाड़ियों, जैसी बेटियों का विश्वास के साथ मुलाकात स्पष्ट रूप से तथ्य की पुष्टि करता है.

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.