Breaking News
Home / News / World Politics

World Politics

poltics of world

March, 2019

  • 19 March

    संथाल नवोदय को गुरूजी ने गठा, बाद में वह आदिवासी सुधार समिति कहलाया -4

    संथाल किंग शिबू सोरेन

    ‘ज़िंदगी तल्ख़ सही लेकिन दिल से लगाए रखना’ – संथाल किंग गुरूजी -भाग 4 भारत के बड़े पूँजीपति वर्गों ने अपनी लूट-खसोट पर केन्द्रित मुनाफे को गति देने के लिए करोड़ों बहाकर 2014 में भाजपा-मोदी को कोंग्रेस का विकल्प साबित करते हुए जनता में अच्छे दिन का उम्मीद जगा दाँव …

  • 13 March

    युवाओं के बीच सोशल मीडिया पर हेमंत की धूम

    युवाओं

    #सोशल_मीडिया किंग ट्वीटर ने अपने कार्यक्रम में पहली बार झारखंड से हेमंत सोरेन को चुन यह साबित किया कि युवाओं के बीच वाकई हेमंत जी का धूम है  आप जनता को याद होगा झारखंड ख़बर ने बड़ी जिम्मेदारी के साथ अपने मंच पर लिखा था कि #सोशल_मीडिया में हेमंत सोरेन …

November, 2018

  • 24 November

    गुरु जी रूपी विचार एक जिद्द का नाम है जिससे खौफ खाती है रघुबर सरकार

    गुरु जी

    गुरु जी एक विचार है … अगला भाग  …घंटों माँ के गोद में सर रखे सोते रहे… जब आँख खुली तो आँसू सूख चुके थे और नयी सुबह ने दस्तक दी थी। मुझे याद है, जमशेदपुर निर्मल महतो शहीद स्थल – “झारखंड संघर्ष यात्रा” के हरी झंडी दिखाए जाने वाले दिन, …

  • 22 November

    गुरूजी एक “विचार” है -जन नेता से पहले एक समाज सुधारक

    शिबू सोरेन (गुरूजी)

    इतिहास सिखाता है कि कोई भी व्यवस्था सनातन नहीं होती। हर शोषित समाज बदलता है और उसे इंसान ही बदलते हैं। इसके जीते जागते उदाहरण हैं हमारे दिशोम गुरु शिबू सोरेन ( गुरूजी )। इन्हीं के आन्दोलन के दम से हम आज अलग झारखंड में सांस ल रहे हैं । …

May, 2018

  • 29 May

    18-23 फ़रवरी, 1946 – ‘नौसेना विद्रोह’ भारतीय इतिहास की गौरवमयी गाथा

    Indian Navy

      अरविन्द सिंह स्वाधीनता आन्दोलन का पूरा इतिहास जनता की ऐसी शौर्यपूर्ण घटनाओं से भी भरा पड़ा है जिनपर हम फ़क्र कर सकते हैं और आगामी संघर्षों के लिए प्रेरणा ले सकते हैं। ये ज्वलन्त घटनाएँ तिलक पर चले मुकदमे के समय भारत के मज़दूरों की पहली राजनीतिक हड़ताल, गदर …

  • 5 May

    मार्क्स – क्रान्तिकारियों के शिक्षक और गुरु

    दुनियाभर के मजदूरों को मुक्ति की राह दिखाने वाले महान व्‍यक्तित्‍व कार्ल मार्क्‍स का आज 200वां जन्म दिन है। मज़दूर वर्ग के महान नेता और शिक्षक कार्ल मार्क्स के जन्मदिवस (5 मई) के अवसर पर: मार्क्स के साथी और जर्मन मज़दूर आन्दोलन के एक प्रमुख नेता “मूर” (दोस्तों के बीच …