Breaking News
Home / News / Biography / Doishom Guru Shibu Soren

Doishom Guru Shibu Soren

April, 2019

  • 24 April

    झारखंड मुक्ति मोर्चा के आन्दोलन का परिणाम है अलग झारखंड

    आन्दोलन

    झारखंड मुक्ति मोर्चा के शंघर्ष से भरे आन्दोलन का परिणाम है अलग झारखंड शिबू सौरेन ने बिनोद बाबू के निधन के तुरंत बाद ही 27-28 जनवरी 1992 को धनबाद सराइढेला में रखे झामुमो केन्द्रीय समिति बैठक में, यह तय हुआ कि राँची मोराबादी मैदान से 15 मार्च को एक विशाल …

  • 22 April

    लोकसभा: युगपुरुष दिशोम गुरु शिबू सोरेन ने 10वीं बार पर्चा भर रचा इतिहास

    लोकसभा

    युगपुरुष दिशोम गुरु शिबू सोरेन ने 10वीं बार लोकसभा का पर्चा भरने को आवाम ने त्यौहार के रूप में मनाया  यह ऐतिहासिक सत्य है कि कोई भी व्यवस्था सनातन नहीं होती, हर शोषित समाज बदलता है और उस जैसा ही जुझारू इंसान बदलता है, जिनके आन्दोलन के दम पर ही …

March, 2019

  • 19 March

    संथाल नवोदय को गुरूजी ने गठा, बाद में वह आदिवासी सुधार समिति कहलाया -4

    संथाल किंग शिबू सोरेन

    ‘ज़िंदगी तल्ख़ सही लेकिन दिल से लगाए रखना’ – संथाल किंग गुरूजी -भाग 4 भारत के बड़े पूँजीपति वर्गों ने अपनी लूट-खसोट पर केन्द्रित मुनाफे को गति देने के लिए करोड़ों बहाकर 2014 में भाजपा-मोदी को कोंग्रेस का विकल्प साबित करते हुए जनता में अच्छे दिन का उम्मीद जगा दाँव …

December, 2018

  • 7 December

    गुरूजी शिबू सोरेन का सहयोगियों के साथ सामजिक आन्दोलन का आरम्भ

    गुरूजी शिबू सोरेन

    गुरूजी शिबू सोरेन का सफ़रनामा कितना अहम है। बेशक, आँखों देखे बिना यक़ीन नहीं हो सकता कि गुरूजी शिबू सोरेन के लिए झारखंड आन्दोलन का सफ़रनामा ऐतिहासिक, सामाजिक और राजनीतिक एतबार से कितना अहम है। जो साक्ष शेष हैं – वह उनके गुज़रे हुए इंक़लाबी दौर से रुबरु करवाता है। …

November, 2018

  • 24 November

    गुरु जी रूपी विचार एक जिद्द का नाम है जिससे खौफ खाती है रघुबर सरकार

    गुरु जी

    गुरु जी एक विचार है … अगला भाग  …घंटों माँ के गोद में सर रखे सोते रहे… जब आँख खुली तो आँसू सूख चुके थे और नयी सुबह ने दस्तक दी थी। मुझे याद है, जमशेदपुर निर्मल महतो शहीद स्थल – “झारखंड संघर्ष यात्रा” के हरी झंडी दिखाए जाने वाले दिन, …

  • 22 November

    गुरूजी एक “विचार” है -जन नेता से पहले एक समाज सुधारक

    शिबू सोरेन (गुरूजी)

    इतिहास सिखाता है कि कोई भी व्यवस्था सनातन नहीं होती। हर शोषित समाज बदलता है और उसे इंसान ही बदलते हैं। इसके जीते जागते उदाहरण हैं हमारे दिशोम गुरु शिबू सोरेन ( गुरूजी )। इन्हीं के आन्दोलन के दम से हम आज अलग झारखंड में सांस ल रहे हैं । …