देश के वैसे विभुति/धरोहर/ महानआत्माओं की जीवनी ( biography ) जिन्होंनेअपन जीवन निछौवर कर देश/राज्य को आज़ादी दिलाई हो अत्याचार से. जिसके कर्म से देश/राज्य ऋणी हों.

गुरूजी एक “विचार” है -जन नेता से पहले एक समाज सुधारक
शिबू सोरेन (गुरूजी) -एक विचार

इतिहास सिखाता है कि कोई भी व्यवस्था सनातन नहीं होती। हर शोषित समाज बदलता है और उसे इंसान ही बदलते हैं। इसके जीते जागते उदाहरण हैं हमारे दिशोम गुरु शिबू…

Continue Reading गुरूजी एक “विचार” है -जन नेता से पहले एक समाज सुधारक

अंत में बस इतना ही कहना चाहता हूँ कि यह निर्मल दा जैसे नेताओं का अथक प्रयास का परिणाम था कि 15 नवंबर 2000 को झारखण्ड अलग राज्य बना, लेकिन आज एक सवाल हर झारखंडी के मन में है कि "क्या वाकई निर्मल दा के सपनों का झारखण्ड बना है?

Continue Reading निर्मल दा (निर्मल महतो) तुम बहुत याद आये…