आईटी सेल

भाजपा का संघी आईटी सेल भष्मासुर बन सुब्रमण्यम स्वामी के पीछे

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

सोशल मीडिया आदि के ज़रिये अफ़वाहें और झूठी ख़बरें फैलाने का काम करने वाली भाजपा का संघी आईटी सेल आज भष्मासुर बन चुकी है। वह अपने आकाओं को पहचाने से भी इनकार करने लगी है। याद होगा भा.ज.पा. के आई.टी. सेल में काम कर चुके महावीर नाम के व्यक्ति ने ध्रुव राठी से इनकी पूरी कार्य-प्रणाली के बारे में विस्तार से बताया था।

दरअसल, यह फ़ासिस्टों के ख़ून में है। काम निकलने के बाद ए किसी को भी सड़क किनारे फेंक सकते हैं। आडवाणी, मुरलीमनोहर जोशी, यशवन्त सिन्हा, अरुण शौरी, गृहमंत्री हरेन पाण्ड्या, जान बचाने की गुहार लगाने वाले तोगड़िया या फिर अब राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी इसके स्पष्ट उदाहरण हो सकते है। 

सुब्रमण्यम स्वामी

सुब्रमण्यम स्वामी, बीजेपी से राज्यसभा सांसद और पार्टी के आइटी सेल के हेड अमित मालवीय के बीच जुबानी जंग अब आर-पार की लड़ाई का रूप ले चुकी है। वह अपनी ही पार्टी को अपने ही आइटी सेल हेड अमित मालवीय को आईटी सेल से हटाने का अल्टीमेटम दिया है। और इसकी जानकारी ट्विटर पर भी साझा किया है। उन्होंने भाजपा को चेतावनी भी दी है कि अगर मेरे प्रशंसक ऐसा करने पर उतरे तो उसके लिए मैं जिम्मेदार नहीं रहूंगा। जैसे मुझपर हमला करने के लिए बीजेपी को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता।

‘अपनी ट्वीट में उन्होंने लिखा, कल तक अगर अमित मालवीय को नहीं हटाया गया तो इसका मतलब है कि पार्टी मेरा बचाव नहीं करना चाहती है ऐसे में अगर पार्टी में ऐसा कोई फोरम नहीं है जहां मैं अपनी राय रख सकूं तो मुझे खुद ही अपना बचाव करना होगा”

आखिर ऐसा क्या हुआ है कि वह अपने ही पार्टी के आईटी सेल पर इतने भड़के हुए है 

सुब्रमण्यम स्वामी का आरोप है कि मालवीय की अगुवाई में बीजेपी का आइटी सेल उन्हें ट्रोल करने में जुटा है। उन्होंने यहाँ तक कहा है कि  बीजेपी की आइटी सेल दुष्ट हो चुकी है। और उसके सदस्य मुझपर हमला कर रहे हैं। ज्ञात हो कि बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी कई बार पहले भी अपने ही पार्टी के खिलाफ मुखर हो बोले हैं।

दरअसल, सांसद में काम-काज सुचारू रूप से नहीं चलने का हवाला देकर एनडीए सदस्यों के लिए यह फरमान सुनाया गया था कि वे वेतन भत्ता नहीं लेंगे। लेकिन, सुब्रमण्यम स्वामी ने पार्टी के खिलाफ जा कर फैसला मानने से इनकार कर दिया था। यह साहेब को कैसे गवारा हो सकता है कि उसके आदेश की अवेलना हो। आईटी सेल को उनके पीछे छोड़ दिया गया भूखे भेड़िया बना। अब देखना यह है कि सांसद सुब्रमण्यम स्वामी के धमकी का क्या जवाब दिया जाता है बीजेपी द्वारा।

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on telegram
Share on whatsapp

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts