NBFC पर RBI के अस्पष्टता ऋण स्थगन के कारण नकदी का संकट

Share on facebook
Share on telegram
Share on twitter
Share on whatsapp
NBFC

RBI के ऋण स्थगन में स्पष्टता के अभाव व ऋण वापसी के कम संग्रह के चलते गैर-बैंकिंग वित्त कंपनियों (NBFC) को नकदी संबंधी मामलों में चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।

क्रिसिल रेटिंग एजेंसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक NBFC को दोहरी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि वे एक तरफ तो ग्राहकों को ऋण की किस्त स्थगित करने की सुविधा दे रहे हैं, लेकिन उन्हें बैंकों से यह सुविधा नहीं मिल पा रही है। रेटिंग एजेंसी के वरिष्ठ निदेशक ने अपने रिपोर्ट में कहते है कि नयी वित्त पोषण पाने में चुनौतियों के बीच लगभग नगण्य स्टॉक को देखते हुए, यदि एनबीएफसी (NBFC) को स्वयं बैंकों से ऋण स्थगन की सुविधा नहीं मिलती है तो उनमें से कई को नकदी की चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा। और वे समय पर ऋण दायित्वों को पूरा न कर पाने के लिए मजबूर हो सकते हैं।

कोरोना वायरस महामारी को रोकने के मातहत देश में देशव्यापी लॉकडाउन को देखते हुए रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा यह राहत पैकेज की घोषणा हुई थी, जिसके तहत एक अप्रैल 2020 को सभी तरह के बकाया कर्ज पर तीन महीने के लिए ऋण स्थगन की मोहलत शामिल थी।

मसलन, एनबीएफसी ने ऋण स्थगन पर आरबीआई से स्पष्टता की उम्मीद जताते हुए तत्काल नकदी सहायता मांग की है।

भाषा

 

Leave a Replay

DON’T MISS OUT ON NEW POSTS

Don’t worry, we don’t spam. Click button for subscribe.