Breaking News
Home / News / Jharkhand / नशे में धुत युवा अब रांची के गलियों में कर रहे हैं खून खराबा 
नशे में धुत झारखंडी युवा

नशे में धुत युवा अब रांची के गलियों में कर रहे हैं खून खराबा 

Spread the love

अभी कल के समाचार में झारखण्ड खबर द्वारा यह खबर लगाई गयी थी की झारखण्ड के बेरोज़गारी के आलम में हताश युवा नशे के आदि हो रहे हैं। इतिफाकन आज यह खबर भी सामने आ गयी कि नशे में धुत युवकों ने कोकर बाजार में 8 जुलाई की रात एक किराना दुकानदार व उसके तीन भाइयों को चाकू मार कर मारने का प्रयास किया, किस्मत से वे केवल घायल हुए। यही नहीं उन युवकों ने दुकान में रखे 50 हजार रुपए लूट लिए और गाड़ियों में तोड़फोड़ की। ऑर्किड अस्पताल में इलाजरत घायलों में तीन की स्थिति गंभीर बनी हुई है। इस मामले में दिलचस्प यह भी है की चाकूबाज अबतक पकड़े नहीं गये हैं। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार कोकर बाजार के उक्त दुकान में संजय भाई अजय, अंकित और विश्वजीत  साथ बैठे थे और अंकित का बेटा मोनू दोस्त के साथ बाहर खड़ा था। उसी समय कुछ युवक पहुंचे और उन्होंने मोनू से कहा कि यहां खड़े क्यों रहते हो। इसी बात पर विवाद  हो गया और उन युवकों ने चारों को चाकू मार फरार हो गए । सीसीटीवी फुटेज से पता चला कि आरोपी गोलू कोकर का ही रहने वाला है। आसपास के लोगों का कहना है कि गोलू अपने दोस्तों के साथ अक्सर नशा करता है। वह पहले भी इस प्रकार की घटना को अंजाम दे चुका है। मोहल्ले के लोगों ने पहले भी इसकी शिकायत पुलिस से की है, लेकिन कोई कार्यवायी नहीं की गयी। 

मजेदार बात यह है कि रात होते ही सदर थाना की तपोवन गली में नशेड़ियों का अड्डा जम जाता है। नशे में धुत ये युवा लगातार कोकर इलाके में अपराध की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। लोगों का कहना है कि सदर पुलिस को पता है ये अपराधी कौन हैं और किस इलाके में अपराध करते हैं, लेकिन इसके बाद भी पुलिस कोई कार्रवाई नहीं करती। साथ ही इनका यह भी कहना है कि हाल के दिनों में पुलिस के सामने इन नशेड़ियों के कई मामले आये, लेकिन पुलिस गंभीर नहीं हुई। इसका सीधा मतलब है कि इनको ताक़तवर लोगों की शह प्राप्त है।

Check Also

हरिवंश टाना भगत

हरिवंश टाना भगत की प्रतिमा को उखाड़ फेका गया है

Spread the loveरघुबर सरकार को न जाने क्यों झारखंडी महापुरुषों खुन्नस है, पहले भगवान बिरसा …

कर्माओं व धर्माओं

कर्माओं व धर्माओ जंगलों से निकाल फैंकने की स्थिति में क्या प्रकृति बचेगी?

Spread the loveकर्माओं व धर्माओ को झारखण्ड के जंगलों से निकाल फैंकने पर क्या प्रकृति …

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.