Breaking News
आपदा राहत पैकेज
रघुबर सरकार की आपदा राहत पैकेज का सच

रघुबर सरकार की आपदा राहत पैकेज का सच

रघुबर सरकार ने आपदा राहत पैकेज के नाम पर अपनी योजनाओं के प्रति बरती गयी लापरवाही को छुपाने का एक शर्मनाक हथकंडा अपनाया है। बज्रपात, कम बारिश होने से जल संकट, सर्पदंश, खनन जनित आपदा, रेडिएशन से होने वाली मौत के साथ-साथ डोभा में डूबने से मौत को भी आपदा राहत पैकेज के अंतर्गत शामिल कर लिया है, ताकि झारखंडी जनता को अपने नाकामियों और लापरवाहियों से बेहद चालाकी से विमुख कर सके।

रघुबर सरकार ने जल संग्रह, सिंचाई की समस्या आदि का हवाला देते हुए राज्य के ग्रामीण इलाकों में डोभा निर्माण की योजना शुरू की थी। बहुत से ग्रामीण इलाकों में डोभे का निर्माण कर जोर-सोर से अपने किए गये फर्जी विकास का ढिंढोरा पीटने में व्यस्त हो गयी। परन्तु बहुत जल्द डोभा में डूबकर मौत की ख़बरों ने भाजपा सरकार की इस योजना की पोल खोलनी शुरू कर दी। डोभों के निर्माण में बरती गयी लापरवाही, निर्माण की गुणवत्ता सरकार की इस योजना पर सवालिया निशान खड़ी करती है।

ऐसे में सरकार की उन मासूमों के प्रति जवाबदेही होती है जिनको सरकार द्वारा सृजित इस आपदा का शिकार हो अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। बावजूद इसकी जाँच कराने के रघुबर सरकार ने जनता को अपने कृत्य से भ्रमित करने के लिए इसे विशिष्ट स्थानीय आपदा में शामिल कर आपदा राहत पैकेज के तहत  मुआवजा देने की घोषणा कर दी। लेकिन ऐसे में सवाल यह उठता है कि मुआवजे की राशि लोगों को मिलने से क्या ये मौत का सिलसिला थम जाएगा या इसका कोपभाजन बने मासूम वापस आ जाएँगे? बेशक ऐसा कुछ होने की गुंजाईश नहीं है लेकिन आपदा राहत पैकेज और मुआवजे के आड़ में सरकार के संरक्षण में हो रहे एक और घोटाले का पर्दाफाश जरूर हो जाएगा।

हालांकि यह पूरा प्रकरण झारखंड की निकम्मी सरकार का, जनता के प्रति झूठे विकास के ढकोसलों और उसके पीछे के काले सच का इकलौता उदहारण नहीं है, परन्तु इस बार तो रघुबर सरकार ने शर्म की सारी सीमायें पार कर दी।अपने कुकर्मों को छुपाने के लिए मासूमों के जान का सौदा करने तक से बाज नहीं आई और इस पर राहत पैकेज के नाम का चादर ओढाने की कोशिश कर रही है।

Check Also

यात्रा भत्ता घोटाला हेमंत सोरेन, विकास सिंह मुंडा

यात्रा भत्ता घोटाला -अधिकारियों ने पेश किये फ़र्ज़ी बिल : विकास सिंह मुंडा

विकास सिंह मुंडा ने भी पत्रकारों से कहा था कि झारखंड के अधिकारियों के ने फ़र्ज़ी बिल पेश कर यात्रा भत्ता घोटाला किया, दस्तावेज है उनके पास।

गुरूजी शिबू सोरेन

गुरूजी शिबू सोरेन का सहयोगियों के साथ सामजिक आन्दोलन का आरम्भ

गुरूजी शिबू सोरेन का सफ़रनामा कितना अहम है। बेशक, आँखों देखे बिना यक़ीन नहीं हो …

अख़बारनामा : हिन्दी अखबारों से ग़ायब मज़दूरों के पलायन का दर्द

कहावत है, “हाथी जिये तो लाख का और मरा तो सवा लाख का”। आज मैं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.