Welcome to Jharkhand Khabar   Click to listen highlighted text! Welcome to Jharkhand Khabar
  TRENDING
समीक्षा बैठक में दिए गए निर्देशों के अनुपालन में क्या हुआ, 15 दिन में रिपोर्ट दें
पत्थलगढ़ी के दर्ज मामलों को वापस लेकर मुख्यमंत्री ने राज्य को बिखरने से बचाया
दबे-कुचले, वंचितों के आवाज बनते हेमंत के प्रस्ताव को यदि केंद्र ने माना तो नौकरियों में मिलेगा आरक्षण का लाभ
टीआरपी घोटाला : लोकतंत्र का चौथे खम्भे मीडिया ने अपनी विश्वसनीयता खोयी
सर्वधर्म समभाव नीति पर चल राज्य के मुखिया पेश कर रहे सामाजिक सौहार्द की अनूठी मिसाल
खाद्य सुरक्षा: आरोप लगा रहे बीजेपी नेता भूल चुके हैं – जरूरतमंदों को 6 माह तक खाद्यान्न देने की सबसे पहली मांग हेमंत ने ही की थी
कोरोना काल में कोई परिवार सड़क पर न आए, इसलिए विभागों में कार्यरत संविदाकर्मियों को मुख्यमंत्री दे रहे हैं सेवा विस्तार
आपदा को अवसर में बदलने की हेमंत सोरेन की सोच ने झारखंड को संकट से बचाए रखा
राज्य के विकास में “खनन नहीं पर्यटन” को बढ़ावा देने की ओर बढ़े मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन
Next
Prev

झारखंड स्थापना दिवस की शुभकामनाएं

मानदेय के नाम आदिवासियों को आपस में लड़ाने का प्रयास

मानदेय के नाम पर आदिवासियों को आपस में लड़ाने की साजिश

मानदेय के नाम पर सरकार भ्रम फैलाने की स्थिति में 

प्रागेतिहासिक काल में मनुष्य जब घूमते हुए थक गए होंगे तब उन्हें ख़याल आया होगा बसेरा बना कहीं एक ही जगह थम जाया जाए। उस स्थान पर घर बनाये होंगे, सुरक्षा एवं आपसी कलह के अनुभवों से नियम बनाये होंगे। बाद में खान-पान, बेटी-रोटी एवं प्राकृतिक से सामंजस्य-संबंध स्थापना हेतु संस्कृति, रीति-रिवाज और परंपरायों को गाढ़े होंगे। इसी आदिम सामाजिक व्यवस्था के ढर्रे को आदिवासी कह हम संबोधित करते हैं।  यह भी सच है झारखंडी आदिवासी इस पुरी सभ्यता को अबतक संभाल कर रखने एवं बचाने  की जुगत में लगातार प्रयासरत हैं।

झारखंडी आदिवासी समुदायों ने  हजारों वर्षो के अपनी सामूहिक चेतना का प्रयोग कर सामाजिक स्वशासन व्यवस्था का निर्माण किया। साथ ही जरुरत पड़ने पर ट्रायल-एरर के आधार पर उसमें सुधार करते हुए समाज को सुचारू रूप से चलाने के लिए खुद को तैयार किया। माझी परगना, मुंडा मानकी, पड़हा राजा आदि जैसे सामाजिक व्यवस्था इसी के परिणाम स्वरुप अस्तित्व में आयीं। इन व्यवस्थाओं में सामाजिक, आर्थिक, सांकृतिक, विधिक और अध्यात्मिक सत्ता के गुर छुपे हुए हैं। अब गौर करने वाली बात यह है कि अनादी काल से ये सामाजिक और अध्यात्मिक अगुओं ने केवल सामाजिक प्रतिष्ठा के लिए अपनी जिम्मेदारी निभायी।

झारखण्ड के विभिन्न जिलों में बसने वाले 9 आदिम जनजातियों समेत 32 जनजातियाँ आज सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक तौर पर कंगाली का दंश झेल रही है। झारखण्ड सरकार ने मौजूदा वक़्त में जान बुझकर इन आदिवासियों को आपस में लड़ाने की मंशा पाले इन अगुओं को मानदेय देने का फैसला किया है। इसी एजेंडे को आगे बढ़ाने की कड़ी में रघुबर सरकार ने संथाल समुदाय के अध्यात्मिक अगुओं को मानदेय तो दिया लेकिन अन्य समुदाय जैसे भूमिज, मुंडा, उरांव, महली, हो आदि के अध्यात्मिक अगुओं को नहीं। साथ ही ग्राम प्रधान को भी मानदेय दे रहे हैं और ग्राम सभा के प्रधान को नहीं।

बाहरहाल, यह सरकार जहाँ मानदेय के नाम पर केवल आदिवासियों को आपस में लड़ाने का प्रयास करती दिख रही है। तो दूसरी ओर आदिवासियों और मूलनिवासियों के बीच में सामाजिक दुरी और शौहर्द को बिगाड़ने का भी काम कर रही है। सरकार द्वारा ग्राम सभा प्रधान और ग्राम प्रधान जैसे शब्दों का प्रयोग कर लोगों को उलझन में डालना केवल उन्हें आपस में लड़ाना नहीं है तो और क्या है। जो निश्चित रुप से भविष्य में व्याप्त झारखंडी एकता को खंडित करेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Related Posts

Click to listen highlighted text!